1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

रिहा अमेरिकी को लेकर कार्टर स्वदेश रवाना

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता जिमी कार्टर उत्तर कोरिया द्वारा रिहा किए गए अमेरिकी नागरिक आइजलोन माहली गोम्स को लेकर अमेरिका लौट रहे हैं. उत्तर कोरिया ने परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ता फिर से शुरू करने का वायदा भी किया है.

default

उत्तर कोरिया और अमेरिका के संबंध पचास के दशक में हुए कोरिया युद्ध के बाद से ही खराब हैं, लेकिन इस बीच उसमें परमाणु हथियारों का मसाला भी शामिल हो गया है. उत्तर कोरिया नियमित रूप से अमेरिका को उकसाने का प्रयास करता रहता है. उसी सिलसिले में एक घटना थी एक अमेरिकी नागरिक को पकड़ा जाना. अब अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जिमी कार्टर के प्रयासों से उत्तर कोरिया ने उसे रिहा कर दिया है.

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता जिमी कार्टर इस समय अमेरिका की राह पर हैं. वे अपने साथ उत्तर कोरिया द्वारा रिहा किए गए अमेरिकी नागरिक आइजलोन माहली गोम्स और परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ता फिर से शुरू करने के उत्तर कोरिया के वायदे के साथ स्वदेश लौट रहे हैं. कार्टर सेंटर ने एक बयान में कहा है, "राष्ट्रपति कार्टर के आग्रह पर और मानवीय कारणों से उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग इल ने गोम्स को क्षमादान दे दिया है."

30 वर्षीय अफ्रो अमेरिकी गोम्स को जनवरी में अवैध रूप से चीन से उत्तर कोरिया में घुसने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. अप्रैल में उन्हें 8 साल का सश्रम कारावास और 6 लाख डॉलर जुर्माने की सजा दी गई थी. अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने गोम्स की रिहाई का स्वागत किया है लेकिन इस पर भी जोर दिया है कि प्रशासन ने कार्टर के दया प्रयासों में कोई औपचारिक भूमिका नहीं निभाई है.

Korea Carter

उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने कहा है, "देश में अवैध रूप से घुसने वाले को रिहा करने का उत्तर कोरिया फैसला उसकी मानवीयता और शांति प्रेमी नीति का प्रमाण है." उत्तर कोरियाई समाचार एजेंसी ने यह भी कहा है कि प्योंगयांग ने कार्टर के माध्यम से पिछले अप्रैल से स्थगित छह गुटीय वार्ता फिर से शुरू करने की इच्छा जाहिर की है.

उत्तर कोरिया के दूसरे नंबर के नेता किम योंग नाम ने कार्टर से भेंट की. केसीएनए के अनुसार कार्टर ने उत्तर कोरियाई अधिकारियों के साथ दोनों देशों के रिश्तों, परमाणु डोसियर और पारस्परिक हित के मुद्दों पर खुली बातचीत की.

उत्तर कोरिया ने पहले भी ऐसे वायदे किए हैं लेकिन वार्ता शुरू करने के लिए कई शर्तें लगाई हैं जिसे अमेरिका और दक्षिण कोरिया मानने को तैयार नहीं हैं. उत्तर कोरिया की मुख्य मांग है कि संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों को उठाया जाए और अमेरिका शांति संधि के लिए बातचीत शुरू करे.

उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग इल इस समय चीन के दौरे पर हैं और अफवाह है कि वे आज चीनी राष्ट्रपति हू चिंथाओ से मिल रहे हैं. कहा जा रहा है कि वे अपने एकमात्र प्रमुख सहयोगी से 27 वर्षीय बेटे किम जोंग उन को सत्ता सौंपने के लिए समर्थन पाने गए हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: आभा एम

DW.COM

WWW-Links