1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

रिश्तों को कमजोर कर सकती हैं सोशल साइटें

इस दौर को फेसबुक, ऑर्कुट, ट्विटर या दूसरी सोशल वेबसाइटों के जरिए दोस्ती का दौर तो कहा जा सकता है, लेकिन इस तरह के रिश्ते आपके निजी रिश्तों को कमजोर कर सकते हैं, आपकी नींद उड़ा सकते हैं और आपको तनाव का रोगी बना सकते हैं.

default

यह बात एक अमेरिकी यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आई है. केंद्रीय पेनसिल्वेनिया की हैरिसबर्ग यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नॉलजी ने इस संबंध में एक प्रयोग किया. शोधकर्ताओं ने एक हफ्ते के लिए फेसबुक, ट्विटर, इंस्टेंट मैसेजिंग और इस तरह की सभी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों का प्रयोग पूरी तरह बंद कर दिया. उसके बाद उन्हें पता चला कि इन वेबसाइटों के कितने नुकसान हैं.

इस प्रयोग को शुरू करने वाले एरिक डार कहते हैं, "इस दौरान छात्रों को अहसास हुआ कि अगर फेसबुक और इंस्टेंट मैसेजिंग पर सही तरीके से काबू न रखा जाए तो ये जिंदगी पर हावी हो सकते हैं."

इस शोध के दौरान 800 छात्रों वाले कॉलेज ने छात्रों और अध्यापकों से सोशल मीडिया का इस्तेमाल न करने को कहा. ज्यादातर लोगों ने इस

NO FLASH Symbolbild Internet Sicherheit

शोध का हिस्सा बनना मंजूर किया और उन्होंने पाया कि असल में तकनीक उनकी जिंदगियों पर हावी हो चुकी है.

डार एक ऐसे छात्र के बारे में बताते हैं जिसने इस दौरान 21 घंटे तक फेसबुक एक बार देख लेने की चाह को महसूस किया. उसने सुबह 2 बजे से 5 बजे तक ही फेसबुक को छोड़ा, वह भी सोने के लिए. डार कहते हैं कि मुझे तो यह लत ही लगती है.

इस प्रयोग के तहत जो लोग फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया साइटों को देखने की इच्छा महसूस करें, उन्हें अपने फोन के जरिए ऐसा करने की इजाजत दी गई. और इसके बाद सामने आए नतीजों से कुछ लोग तो हैरान भी नजर आए. डार बताते हैं, "इस दौरान ज्यादातर छात्रों ने धूम्रपान करने वालों जैसी तलब महसूस की. जैसे धूम्रपान करने वाले सिगरेट पीने के लिए क्लास से गायब हो जाते हैं वैसे ही वे लोग फेसबुक देखने के लिए क्लास से गायब हुए." लेकिन काफी छात्रों ने यह भी महसूस किया कि सोशल नेटवर्किंग से दूर रह कर वे तनाव रहित रहे और उन्हें अन्य काम करने के लिए ज्यादा वक्त मिला. कुछ छात्र अपने दोस्तों से असल में मिल पाए.

एक छात्रा अमांडा जुक कहती हैं कि वह फेसबुक का इस्तेमाल बहुत ज्यादा नहीं करती हैं लेकिन उन्हें भी इसे न देख पाने पर थोड़ी सी खीज महसूस हुई.

Facebook Nutzer User Computer Datenschutz Internet Web 2.0 Flash-Galerie

उन्होंने कहा कि उनके लिए तो इस प्रयोग का कुछ ज्यादा फायदा नहीं हुआ लेकिन उनकी एक दोस्त को शायद कुछ फायदा हुआ क्योंकि वह तो फेसबुक की लत की शिकार है. जुक ने कहा, "मेरी दोस्त ने कुछ हफ्तों तक फेसबुक से दूर रहने का फैसला कर लिया है ताकि वह स्कूल के काम के साथ तालमेल बिठा सके. ऐसा करने में इस प्रयोग ने उसकी काफी मदद की."

डार बताते हैं कि अभी इस शोध के नतीजों का विश्लेषण किया जा रहा है लेकिन एक बात तो जाहिर है कि सोशल मीडिया के इस्तेमाल के साथ साथ संचार के पुराने तरीकों को भी लगातार इस्तेमाल करते रहना चाहिए.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links