1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

रिश्तों के पुल हैं कलाकारः वीना मलिक

पाकिस्तानी जेल में सरबजीत सिंह और भारतीय जेल में सनाउल्लाह की मौत के बाद भारत-पाक के रिश्तों में आई तल्खी सुधारने में दोनों देशों के कलाकार अहम भूमिका निभा सकते हैं, ये कहना है चर्चित पाकिस्तानी अभिनेत्री वीना मलिक का.

अपनी फिल्म जिंदगी 50-50 के प्रमोशन के लिए कोलकाता पहुंची वीना का मानना है,"सरबजीत की मौत के बदले के तौर जम्मू की जेल में पाकिस्तानी कैदी सनाउल्लाह की मौत उनको महात्मा गांधी की मशहूर उक्ति याद दिलाती है कि आंख के बदले आंख लेने की भावना से पूरी दुनिया अंधी हो जाएगी."वह कहती हैं कि दोनों देशों में न्यूटन के तीसरे नियम के मुताबिक किसी भी क्रिया की तुरंत प्रतिक्रिया होने लगती है. अगर भारत से पाकिस्तानी कलाकारों को वापस भेजा जाता है तो पाकिस्तान में भारतीय कलाकारों पर पाबंदी लगा दी जाती है. वीना कहती हैं,"रिश्तों में तल्खी की सबसे ज्यादा मार कलाकारों को ही भुगतनी पड़ती है."

अपने विवादास्पद कारनामों और बयानों से सुर्खियां बटोरने वाली वीना को लगता है कि दोनों देशों के बीच प्यार, शांति और सद्भाव की भावना मजबूत करने की दिशा में पहल की जानी चाहिए ताकि सरबजीत और सनाउल्लाह जैसी घटनाएं दोबारा नहीं हों. वीना कहती हैं,"भारत और पाकिस्तान दोनों के सामने गंभीर चुनौतियां हैं. हम पड़ोसी हैं, दुश्मन नहीं. हमें अतीत को भुला कर नए सिरे से संबंधों की शुरूआत करनी चाहिए."

हिंदी फिल्मों में अपने सफर का जिक्र करते हुए वीना ने कहा कि इस उद्योग से उनको काफी अपनापन मिला है. वीना ज्यादा से ज्यादा हिंदी फिल्मों में काम तो करना चाहती हैं. लेकिन इसके लिए वह अभिनय की क्वालिटी में कोई समझौता करने को तैयार नहीं हैं. वह कहती हैं, "मैं अधिक से अधिक फिल्में करना चाहती हूं. लेकिन इसके लिए अभिनय की क्वालिटी से कोई समझौता नहीं कर सकती." उनकी ताजा फिल्म जिंदगी 50-50 24 मई को रिलीज होगी.

Pakistan Schauspielerin Veena Malik

लेकिन अब तक के सफर में विवाद उनके जीवन का अहम हिस्सा क्यों बन गया है? इस सवाल पर यह अभिनेत्री कहती हैं कि वह जानबूझ कर विवादों में नहीं पड़ती. मुस्लिम तबके की लड़की होकर फिल्मों में बोल्ड अभिनय करना इस विवाद की प्रमुख वजह है."मैं तो पहले पढ़ना चाहती थी. लेकिन गरीब परिवार की होने की वजह से पढ़ाई का खर्च उठाना मुश्किल था. इसलिए मैंने इस क्षेत्र में आने का फैसला किया. लोगों ने काफी हतोत्साहित किया. कहा इस पेशे में कोई इज्जत नहीं है. लेकिन मैं अड़ी रही. काम नहीं करती तो परिवार का खर्च चलाना मुश्किल होता." वीना के मुताबिक फिल्मों में काम करने की वजह से दोनों देशों में उनको लगातार धमकियां मिलती हैं. लेकिन वह न तो काम छोड़ेंगी और न ही अपना देश. पिछले साल वह एक सप्ताह भी पाकिस्तान में नहीं गुजार सकी हैं. उनको उम्मीद है कि कभी न कभी वहां के लोगों की सोच बदलेगी और वह अभिनय को एक इज्जतदार पेशे के तौर पर देखेंगे. तब वह वहां लौट सकेंगी.

अब उनकी सबसे बड़ी इच्छा क्या है ? वीना कहती हैं कि वह फिल्म उद्योग के तीनों खान, शाहरुख, सलमान और आमिर के साथ काम करना चाहती हैं. वीना फिलहाल एक अंग्रेजी फिल्म में भी काम करने की तैयारी कर रही हैं.

रिपोर्टः प्रभाकर, कोलकाता

संपादनः आभा मोंढे

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री