1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

रिकॉर्डों में नहाया बुंडेसलीगा

आर्थिक तौर पर सुदृढ़ और सारी दुनिया में आदर्श समझा जाने वाला जर्मन फुटबॉल लीग नए रिकॉर्डों की बरसात में नहा रहा है. एकमात्र समस्या है स्टेडियम के अंदर और बाहर हिंसक फैंस की.

बुंडेसलीगा के प्रमुख किरदारों ने साल की समारोही शुरुआत की है. लगातार नौवीं बार लीग ने रिकॉर्ड कारोबार किया है और टर्नओवर का नया मानक बनाया है. 2011-12 में बुंडेसलीगा के क्लबों ने 2.08 अरब यूरो का कारोबार किया था, इस साल उसमें और वृद्धि हुई है. दस साल पहले के मुकाबले क्लबों के पास 1 अरब यूरो ज्यादा है.

इस बार चैंपियंस लीग में जर्मनी के चार क्लब खेल रहे हैं और दुनिया भर में उसकी तारीफ हो रही है. विश्वकप का साल शुरू होने पर जर्मन पेशेवर फुटबॉल पूरी तरह से पार्टी के मूड में है. जर्मन फुटबॉल लीग डीएफएल के नए साल के स्वागत में आयोजित पार्टी में महानिदेशक क्रिस्टियान जाइफर्ट कहते हैं, "2013 पर निगाह डालने से पता चलता है कि बुंडेसलीगा यूरोप में फिर से चोटी पर वापस आ गया है. अब चाहे पहला, दूसरा या तीसरा स्थान हो, हमारे लिए मायने नहीं रखता."

चैंपियन बायर्न म्यूनिख और बोरुसिया मोएंशनग्लाडबाख के बीच परंपरागत मुकाबले के साथ बुंडेसलीगा के इस सीजन का रिटर्न राउंड शुरू होने के तीन दिन पहले फ्रैंकफर्ट में नए साल की पार्टी में सारे देश के फुटबॉल दिग्गज मौजूद थे. फ्रांस बेकेनबावर, रूडी फोएलर, गुंटर नेत्सर या टोनी शूमाखर हों, देश के 36 पेशेवर क्लबों के प्रतिनिधि और खिलाड़ी पार्टी में मौजूद थे. पार्टी लीग की सफलता का जश्न मनाने के लिए तो था ही, लीग के अध्यक्ष राइनहार्ड राउबाल ने इस मौके पर विवादित मुद्दों को भी उठाया.

पिछले शनिवार को कोलोन में हुई हिंसा के बाद फुटबॉल के नाम पर होने वाली हिंसा पार्टी में मुख्य मुद्दा था. राइनहार्ड राउबाल ने सरकार और अदालतों से हिंसा करने वाले फुटबॉल फैंस के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने की मांग की. उन्होंने कहा, "मैं फैंस के तबकों को सजा नहीं देना चाहता, मैं चाहता हूं कि जो अपने इरादों के लिए फुटबॉल का दुरुपयोग करते हैं, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो. यदि यह काफी नहीं है तो कानून के संशोधन के बारे में सोचा जाना चाहिए."

Symbolbild Fußball Bundesliga Wirtschaftlichkeit

बुंडेसलीगा में कमाई के कई जरिए

क्रिस्टियान जाइफर्ट ने भी इस पर जोर दिया कि फैन का मुद्दा क्लबों के लिए महत्वपूर्ण रहेगा. "एक मुद्दा जिसका हमें सामना करना होगा, स्टेडियम के अंदर और बाहर सुरक्षा का मुद्दा है." उन्होंने कहा कि फुटबॉल संघ और लीग जर्मनी में फुटबॉल संस्कृति को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहा है और आगे भी करता रहेगा. उन्होंने कहा कि मेहमान फैंस को मैच में हिस्सा न लेने देने जैसे क्लबों के फैसलों का भी समर्थन किया जाना चाहिए, "मैं समझता हूं कि सुरक्षा बढ़ाने वाले सभी कदमों का समर्थन होना चाहिए."

लीग के अधिकारियों ने राष्ट्रीय टीम का हिस्सा रहे थोमस हित्सेल्सपैर्गर की समलैंगिक होने की घोषणा पर मीडिया में हुई प्रतिक्रिया पर भी चर्चा की. राउबाल ने कहा कि वे मीडिया रिपोर्टिंग से खुश नहीं हुए क्योंकि इंसानों की लैंगिक रुझान सामान्य बात है. जाइफर्ट ने फुटबॉल में समलैंगिकता के सावल पर कहा कि उन्हें डर है कि अपने को समलैंगिक बताने वाला पहला सक्रिय खिलाड़ी गे आंदोलन का आइकन बन जाएगा, "वह कभी सामान्य फुटबॉलर नहीं रह पाएगा."

एमजे/आईबी (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री