1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

राहुल नहीं होंगे प्रधानमंत्री उम्मीदवार

भारत की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस ने हैरतअंगेज फैसला करते हुए अध्यक्ष सोनिया गांधी के बेटे राहुल गांधी को पीछे कर लिया है. कांग्रेस प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवार की घोषणा नहीं कर रही है.

पार्टी की राष्ट्रीय बैठक से ठीक पहले कार्यसमिति की बैठक में सोनिया ने एलान कर दिया है कि राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं होंगे. मीडिया रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी 2014 का चुनाव उनके नेतृत्व में लड़ेगी.

कांग्रेस प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के हवाले से कहा, "उन्होंने कहा कि यह पार्टी की परंपरा नहीं है. बस इसलिए कि कुछ पार्टियां प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का नाम घोषित कर रही हैं, हम भी ऐसा कर दें. यह ठीक नहीं होगा." हालांकि सोनिया गांधी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद मीडिया से कहा था कि "सही वक्त पर कांग्रेस अपने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार का एलान करेगी."

द्विवेदी का कहना है कि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में सभी लोग चाहते थे कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर आगे किया जाए. लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बीच में दखल देते हुए ऐसा करने से रोक दिया. भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पहले ही कह चुके हैं कि इस बार वह चुनाव के बाद प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं हैं.

पार्टी की लगभग दो घंटे तक चली बैठक में केरल के कांग्रेस अध्यक्ष रमेश चेन्नीतला ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की मांग की, जिसका बीके हरिप्रसाद, गुरुदास कामत, गुलाम नबी आजाद और राजीव सातव ने फौरन अनुमोदन कर दिया. लेकिन इसके बाद सोनिया गांधी ने हस्तक्षेप किया.

इससे पहले बीजेपी ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया है, जबकि आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल कह चुके हैं कि वह लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे.

राहुल गांधी का कद पिछले साल ही बढ़ाया गया था, जब उन्हें कांग्रेस उपाध्यक्ष बनाया गया था. गांधी नेहरू परिवार से पहचान बनाने वाली पार्टी के बारे में इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि कमान धीरे धीरे राहुल गांधी को सौंपने की तैयारी चल रही है. जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने आजादी के 42 साल बाद तक लगभग पूरे समय भारत पर शासन किया. लेकिन राजीव गांधी के बाद से इस परिवार का कोई भी सदस्य प्रधानमंत्री नहीं बना है. ताजा फैसले के बाद भी यह तय नहीं है कि क्या चुनाव जीतने की हालत में भी पार्टी राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के लिए आगे करेगी या नहीं.

एजेए/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री