1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

राष्ट्रपति चुनाव प्रचार में धांधली की जांच

राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों की आमदनी और टैक्स का अक्सर पता नहीं चलता. स्लोवाकिया में अधिकारियों को अपने राष्ट्रपति पर संदेह है. महाधिवक्ता कार्यालय स्लोवाक राष्ट्रपति आंद्रे किस्का पर करचोरी के आरोपों की जांच करेगा.

Spanien Slowenien Robert Fico und Andrej Kiska (picture-alliance/dpa/Zipi/P. Hudec)

फीको और किस्का

टीवी चैनल टीए3 ने कहा है कि महाधिवक्ता कार्यालय राष्ट्रपति के चुनाव प्रचार के खर्च में टैक्सचोरी के संदेह की फिर से जांच करायेगा. किस्का और उनके भाई द्वारा गठित कंपनी किस्का ट्रेवल एजेंसी ने करचोरी को भूल से हुई गलती बताया था और बचाया गया कर वापस कर दिया था. इसके बाद पुलिस और कर अधिकारियों ने राष्ट्रपति के खिलाफ जांच अचानक रोक दी थी.

सितंबर से ही इस तरह की खबरें सामने आने लगी थीं कि किस्का के चुनाव प्रचार के खर्च को लेकर कई जांच चल रही हैं. निर्दलीय उद्यमी किस्का ने 2014 में राष्ट्रपति चुनाव प्रचार का खर्च अपनी कंपनी के पैसे से किया था और अंत में चुनाव में विजयी रहे थे. इस तरह वे चुनाव में खर्च की कानूनी सीमा का पालन करने से बच गये और उनकी कंपनी ने प्रचार के खर्च को कंपनी का खर्च दिखाकर टैक्स बचा लिया, हालांकि उसका कंपनी के काम से कोई लेना देना नहीं था.

स्लोवेनिया के तट पर साइकिल की सैर

इस वजह से राष्ट्रपति की कंपनी पर टैक्सचोरी के आरोप लगे और टैक्स अधिकारियों ने उसके खिलाफ जांच शुरू की. लेकिन किस्का की ट्रेवल एजेंसी बचाये गये कर का फौरन भुगतान कर सजा पाने से बच गयी. राष्ट्रपति किस्का के खिलाफ जांच प्रधानमंत्री रोबर्ट फीको से उनके प्रतिस्पर्धा का भी नतीजा है. कुछ समय पहले राष्ट्रपति ने टैक्स कांड को लेकर पहली बार माफी मांगी और कहा कि उन्हें एकाउंटिंग पर ज्यादा सावधान होना चाहिए था. बाद में प्रधानमंत्री फीको ने संकेत दिया कि राष्ट्रपति ने पुलिस को प्रभावित करने की कोशिश की थी. चेकोस्लोवाकिया के टूटने के बाद बना स्लोवाकिया मध्य यूरोपीय देश है और उसकी आबादी करीब 54 लाख है.

एमजे/एनआर (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री