राष्ट्रगान के दौरान खड़े ना होने पर तीन की पिटाई | दुनिया | DW | 12.12.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

राष्ट्रगान के दौरान खड़े ना होने पर तीन की पिटाई

चेन्नई के एक सिनेमा में राष्ट्रगान के दौरान खड़े ना होने पर तीन युवकों की पिटाई का मामला सामने आया है.

 सुप्रीम कोर्ट की तरफ से सिनेमाघरों में फिल्म से पहले राष्ट्रगान चलाने को अनिवार्य बनाए जाने के बाद यह इस तरह का पहला मामला है. 'टाइम्स ऑफ इंडिया' अखबार ने खबर दी है कि यह घटना रविवार की है जब अशोक नगर इलाके के काशी थिएटर में राष्ट्रगान के दौरान कुछ लोग खड़े नहीं हुए. इसमें एक युवक और दो युवतियों को सेल्फी लेते देखा गया. इसके बाद कुछ लोगों के साथ उनकी कहासुनी हुई और फिर उन्हें साथ मारपीट की गई. चश्मदीदों का कहना है कि राष्ट्रगान के दौरान कुल नौ लोग अपनी सीटों पर बैठे रहे.

उधर, चेन्नई पुलिस का कहना है कि कुल सात लोगों के खिलाफ 'राष्ट्रगान का अपमान' करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. 'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने विजयकुमार नाम के व्यक्ति की शिकायत पर यह कार्रवाई की है. बताया जाता है कि विजयकुमार मारपीट करने वाले ग्रुप का हिस्सा था.

देखिए दुनिया भर के राष्ट्रीय पशु

पुलिस का कहना है कि उसने अपनी गश्त के दौरान सिनेमा के बाहर कुछ लोगों को लड़ते देखा था. उन्हें पूछताछ के लिए ले जाया गया और फिर सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. वहीं एक आरोपी का कहना है, "उन्होंने हमें गालियां देनी शुरू कर दीं, जिन्हें हमने अनदेखा करने की कोशिश की. वे लोग इंटरवल के दौरान हमारे पास आए और मारना शुरू कर दिया.”

पिछले दिनों, सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि देश के सभी सिनेमाघरों में फिल्म से पहले राष्ट्रगान चलाया जाए और इस दौरान वहां मौजूद सभी लोगों को खड़ा होना पड़ेगा. सोशल मीडिया पर बहुत से लोगों ने इस फैसले का विरोध किया. वहीं इसका समर्थन करने वालों की भी कमी नहीं थी.

भारत मनाता है इनके जन्मदिन, देखिए

DW.COM

संबंधित सामग्री