1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

राम रहीम को 20 साल की कैद

बलात्कार के मामले में शुक्रवार को दोषी करार दिये गये गुरमीत राम रहीम को अदालत ने 20 साल के कैद की सजा सुनाई है.

सीबीआई के प्रवक्ता ने जानकारी दी है कि राम रहीम को प्रत्येक मामले के लिए 10-10 साल के कैद की सजा मिली है. उन्हें कुल मिला कर 20 साल की सजा दी गई है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कोर्ट में सजा सुनाये जाने के दौरान राम रहीम रोने लगे और जज से अपने लिए रहम की मांग की.  

राम रहीम के वकीलों ने अपने मुवक्किल के कथित समाजसेवी कामों का हवाला दे कर हल्की सजा सुनाने की मांग की थी. 

शुक्रवार की हिंसा से सबक लेते हुए सोमवार को पुलिस को प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मार देने के आदेश दे दिये गये हैं. हरियाणा और पंजाब में स्कूल कॉलेजों के बंद रखा गया है.

स्थानीय लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने की हिदायत दी गयी है. सुरक्षा के इंतजाम के लिए हजारों की तादाद में अर्धसैनिक बलों, पुलिसकर्मियों और सेना के जवानों को तैनात किया गया है. 

शुक्रवार को गुरमीत राम रहीम को विशेष अदालत ने 2002 के एक मामले में दो महिलाओं के साथ बलात्कार का दोषी माना.

सजा सुनाए जाने के बाद राम रहीम के समर्थकों ने पूरे राज्य में हिंसक प्रदर्शन किया. इस दौरान कम से कम 38 लोगों की मौत हो गयी जबकि सैकड़ों लोग घायल हुए. करोड़ों रुपये की संपत्ति का भी नुकसान हुआ. इसके बाद कोर्ट से फटकार मिलने पर सरकार हरकत में आयी और राम रहीम के डेरे को सेना ने अपने घेरे में ले लिया.

हरियाणा में कानून व्यवस्था के लिए जिम्मेदार अधिकारी रामनिवास ने कहा है, "अगर कोई शख्स प्रदर्शन करता हुआ नजर आता है तो हमने देखते ही गोली मार देने के आदेश दिये हैं."

इस बीच, राम रहीम के वकील ने कहा है कि उनके मुवक्किल निर्दोष हैं और वो ऊंची अदालत में अपील करेंगे. हरियाणा और पंजाब के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. राजधानी दिल्ली में भी सुरक्षा बलों को अलर्ट पर रखा गया है. सुरक्षा व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए राम रहीम को अदालत में पेश नहीं किया गया. अदालती कार्रवाई रोहतक की जेल में हुई, जहां जजों को सुनवाई के लिए हेलीकॉप्टर से ले जाया गया. रोहतक जेल के अधिकारी राजीव पंत ने बताया कि जेल की लाइब्रेरी को ही अदालत के कमरे की शक्ल दे दी गयी है.

रोहतक की जेल को एक किले में तब्दील कर दिया गया है. यहां तक कि पत्रकारों को भी डेढ़ किलोमीटर पहले ही रोक दिया जा रहा है. वहां सुरक्षा के भारी इंतजाम हैं. सड़कों पर कांटेदार तारों से बैरिकेडिंग की गयी है. हरियाणा के सिरसा में राम रहीम के संगठन डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय पर भी भारी पहरा है. राम रहीम को जेड प्लस सुरक्षा मिली हुई थी जिसे उनके दोषी करार दिये जाने के बाद वापस ले लिया गया है.

प्रदर्शनकारियों पर नियंत्रण नहीं कर पाने और शुक्रवार को हुई व्यापक हिंसा के लिए हरियाणा सरकार की काफी आलोचना हुई है. इस मामले ने लोगों में गुरुओँ को लेकर अंधविश्वास की जड़ें कितनी गहरी हैं इसका अंदाजा भी इस घटना से हो गया है. लाखों लोगों ने सड़कों पर आकर जहां तहां उत्पात मचाया है.

एनआर/एके (रॉयटर्स)

DW.COM