1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रामपाल के आश्रम से मिले कंडोम और कैमरे

दो हफ्ते के हुड़दंग के बाद बाबा रामपाल की गिरफ्तारी मुमकिन हो पाई है. आश्रम से बाहर आई महिलाएं अब यौन शोषण का मुद्दा उठा रही हैं.

ताजा रिपोर्टों के अनुसार हरियाणा में रामपाल के आश्रम से कंडोम और महिलाओं के टॉयलेट में कैमरे लगे मिले हैं. आश्रम से निकली कुछ महिलाओं ने यौन शोषण की शिकायत की थी. इसमें एक स्कूली छात्रा के साथ यौन दुर्व्यवहार भी शामिल है.

इस बीच पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने बाबा रामपाल को बेल देने से इंकार कर दिया है. मामला 2006 के हत्या मामले में बाबा रामपाल की अदालत में पेशी का है. अदालत के नोटिसों के बावजूद बाबा ने कोर्ट में पेश नहीं हुए. दो हफ्ते तक पुलिस और भक्तों के बीच चली झड़प में छह लोगों की जान गयी है और 200 से ज्यादा घायल हुए हैं.

"ये झूठे इल्जाम हैं"

63 वर्षीय बाबा रामपाल बहाना बनाते रहे हैं कि स्वास्थ्य कारणों से वह अदालत में पेश नहीं हो सकते. इसी को देखते हुए पुलिस गिरफ्तारी के बाद उन्हें पंचकुला के अस्पताल ले गयी, जहां उनके कई टेस्ट किए गए और रिपोर्टों के अनुसार वह पूरी तरह से स्वस्थ हैं. रामपाल खुद पर लगे हर आरोप को गलत बता रहे हैं. टेस्ट के बाद जब उन्हें अस्पताल से बाहर ले जाया जा रहा था, तब भी वह पत्रकारों की ओर देख कर चिल्लाए, "ये झूठे इल्जाम हैं".

इतने दिनों तक वह अपने अनुयायियों का सहारा ले कर आश्रम में छिपे रहे. अब जब करीब दस हजार लोगों को पुलिस आश्रम से निकाल चुकी है, तो इस तरह की बातें सामने आ रही हैं कि लोगों को जबरन ही आश्रम में रखा गया था. बाहर आए लोगों का कहना है कि उन्हें धमकाया जा रहा था कि अगर वे एक बार आश्रम से बाहर चले गए, तो उनके लिए वापसी के रास्ते हमेशा के लिए बंद हो जाएंगे.

आश्रम की तलाशी जारी

इस बीच आश्रम में बिजली काट दी गई थी. इस कारण इतनी बड़ी संख्या में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. रिपोर्टों के अनुसार भूख, प्यास और घुटन के चलते लोगों ने आश्रम छोड़ने का फैसला किया. रामपाल के लिए यही लोग कवच का काम कर रहे थे और उनके बाहर आते ही पुलिस के लिए रामपाल तक पहुंचने का रास्ता साफ हो गया.

बारह एकड़ में फैले बाबा के आश्रम की तलाशी जारी है. पुलिस को डर है कि हिंसा फैलाने वाले कुछ तत्व अब भी अंदर छिपे हो सकते हैं. माना जा रहा है कि करीब 200 लोग अभी भी अंदर हैं. पुलिस और अर्द्धसैनिक बल आश्रम के लोगों को विश्वास दिलाने की कोशिश कर रहे हैं कि वे उनकी मदद के लिए आश्रम में पहुंचे हैं.

DW.COM