1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

रात भर बारिश, गॉल टेस्ट में खेल रूका

भारत और श्रीलंका के बीच पहले टेस्ट के दूसरे दिन के खेल में रात भर हुई बारिश की वजह से देरी हो रही है. गॉल स्टेडियम में पिच पर कवर. सोमवार लंच से पहले मैच शुरू होने की संभावना नहीं. श्रीलंका के दो विकेट पर 256 रन.

default

मैच शुरू होने का इंतजार

दोनों टीमों के लिए राहत की बात यही है कि अभी गॉल में बरसात नहीं हो रही है. हालांकि मौसम अब भी खराब ही है जिससे श्रीलंका के तटीय शहर गॉल के मैदान को सूखने में मुश्किलें पेश आ रही हैं. कवर से पानी रिस कर नीचे जमीन पर पहुंच गया है जिससे आउटफील्ड फिसलन भरी हो गई है. वैसे टेस्ट के पांचों दिन खराब मौसम का अनुमान जताया गया है. रविवार को भी मैच आधे घंटे की देरी से शुरू हुआ था.

पहले दिन के खेल में 22 ओवर नहीं फेंके जा सके और मैच को पहले ही रोक देना पड़ा. लेकिन जितना खेल हुआ उसमें श्रीलंका का दबदबा बना रहा. थारंगा परणविताना और कप्तान कुमार संगकारा ने शानदार शतकीय पारियां खेल कर भारत को बैकफुट पर जाने को मजबूर कर दिया. श्रीलंका ने पहले दिन दो विकेट खोकर 256 रन बनाए जिसमें 181 रन की साझेदारी परणविताना और संगकारा की है. दोनों बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और उन पर काबू पाने में भारतीय गेंदबाजों को पसीना आ गया.

टेस्ट मैचों में 22वां शतक जड़ते हुए संगकारा ने भारत के खिलाफ चौथा शतक पूरा किया और वह 103 रन बनाकर आउट हुए. हालांकि परणविताना एक खतरे के रूप में अब भी क्रीज पर मौजूद हैं और वह 110 रन बना चुके हैं. परणविताना और उनके साथ पारी की शुरुआत करने वाले तिलकरत्ने दिलशान ने बल्लेबाजी के लिए मुफीद पिच का फायदा उठाया और सिर्फ 10 ओवर में ही 55 रन जोड़ दिए.

भारत के नए तेज गेंदबाज अभिमन्यु मिथुन एकमात्र ऐसे गेंदबाज रहे जो श्रीलंकाई बल्लेबाजों पर थोड़ा बहुत असर डालते दिखाई दिए. अपने पहले चार ओवर में अभिमन्यु ने सिर्फ छह रन दिए. कर्नाटक की ओर से खेलने वाले अभिमन्यु को मेहनत का परिणाम भी मिला जब उन्होंने दिलशान को पैवेलियन भेज दिया. इसके बाद उतरे कप्तान कुमार संगकारा ने 12 चौके जड़ते हुए भारतीय गेंदबाजों को बेदम कर दिया. वह चाय से ठीक पहले आउट हुए जब वीरेंद्र सहवाग की गेंद पर सचिन तेंदुलकर ने उन्हें मिडविकेट पर लपक लिया.

श्रीलंका के जादूगर स्पिनर मुरलीधरन का यह आखिरी टेस्ट है और उन्हें खेलते देखने के लिए करीब 15 हजार लोग स्टेडियम में मौजूद थे. टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट का जादुई आंकड़ा छूने के लिए मुरली को सिर्फ आठ विकेटों की दरकार है और उनके कौशल को देखते हुए यह पाना मुश्किल नहीं लगता. वहीं भारत पिछले 17 सालों से श्रीलंका में टेस्ट सीरिज में जीत के लिए तरस रहा है. 1993 में आखिरी बार मोहम्मद अजहरुद्दीन के नेतृत्व में भारत ने श्रीलंका को 1-0 से हराकर टेस्ट सीरिज जीती. अब धोनी एक नया रिकॉर्ड कायम करना चाहते हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: उभ