1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

राज्यसभा चुनावः पासवान,रूडी, विजय माल्या जीते

बिहार और राजस्थान में क्रॉस वोटिंग के आरोप के बीच पांच राज्यों में राज्य सभा की 18 सीटो के लिए गुरुवार को मतदान हुआ. बिहार से प्रमुख जीतने वालों में लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष राम विलास पासवान हैं.

default

दूसरी अहम जीत बीजेपी के प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी की है. पासवान के लिए यह जीत काफी अहम है क्योंकि पिछले साल लोक सभा का चुनाव हारने के बाद राजनैतिक तौर पर वो कहीं गायब हो गए थे.

राज्य से आ रही ख़बरों के अनुसार बीएसपी के पांच में से कम से कम चार ने राष्ट्रीय जनता दल को अपना मत दिया. बीजेपी के विधायक पी राम ने माना की यह पहले ही तय हो गया था की हमारा मत राष्ट्रीय जनता दल को जायेगा.

Vijay Mallya

कर्नाटक में चार सीटों के लिए मतदान हुआ. जीतने वालों में प्रमुख नाम आजाद उम्मीदवार विजय माल्या का है. माल्या के जीत निश्चित मानी जा रही थी क्योंकि उन्हें उन्हें सत्तारूढ़ बीजेपी का समर्थन हासिल था. पार्टी शुरू में उन्हें समर्थन देने को लेकर एकमत नहीं थी, क्योंकि उनकी उम्मीदवारी को जनता दल एस का समर्थन भी हासिल था. लेकिन राज्य भाजपा इकाई प्रमुख के एस इस्वरप्पा ने बेंगलूर में कल कहा की भाजपा ने नेतृत्व के निर्देश के अनुरूप राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार को हराने की ठानी है ताकि माल्या दूसरी बार राज्यसभा में आ सके. माल्या को जीतने के लिए 45 वोट चाहिए थे. जीत के बाद माल्या ने माना की उन्होंने अन्य डालों में सेंध लगायी थी क्योंकि कानूनी तौर पर ऐसा करने में कोई मनाई नहीं है. ''वैसे भी बीजेपी का लक्ष सिर्फ यही था की कांग्रेस को हराए और वो उन्होंने ने हासिल कर लिया.'' माल्या ने पत्रकारों से कहा.

राम जेठमलानी और आनंद शर्मा राजस्थान से जीत गए हैं. राजस्थान में जाने माने वरिष्ठ वकील और पूर्व कानून मंत्री राम जेठमलानी को उम्मीदवार बनाकर भाजपा ने अपने ही पार्टी के सदस्ययों की नाराजगी मोल ले ली थी. जेठमलानी ने संसद पर हमलों के दोषी अफजल गुरु की पैरवी की थी. पार्टी ने अपने विधायकों को एक होटल में रखा था ताकि वो पार्टी उम्मीदवार के हक में वोट देने का इरादा बदले नहीं. वो भी उन्हें भारी पड़ा जब विधायकों को पायरेडेड डीवीडी से फिल्म राजनीति दिखा कर मुसीबत मोल ली.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के राजस्थान में मतदान से अनुपस्थित रहने के फैसले से भी भाजपा के दोनों उम्मीदवारों की जीत के अवसर बढ़ गए. उन्हें जीतने के लिए 41 की बजाय 40 वोट की ज़रुरत थी. भाजपा ने अपने विधायकों को होटल में रखने के अलावा एक व्हिप भी जारी किया था.

उधर झारखण्ड में कांग्रेस और झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के उम्मीदवारों ने राज्य सभा में प्रवेश पा लिया है. कांग्रेस के धीरज साहू को २८ वोट मिले जबकि जेएमएम् के डी सिंह को 32 मत मिले. बीजेपी के अजय मारू केवल 17 मत मिले और वो हार गए.

रिपोर्टः नोरिस प्रीतम, नई दिल्ली

संपादनः आभा मोंढे

संबंधित सामग्री