1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

राजनीतिज्ञ अपने आसपास ईमानदार नहीं चाहता

हरियाणा के व्हिसलब्लोवर आईएएस अधिकारी अशोक खेमका का बीजेपी सरकार द्वारा फिर से तबादला किए जाने पर सोशल मीडिया में हंगामा मचा है. ट्विटराटी उनके तबादले पर भ्रष्टाचार और ईमानदारी के मुद्दे उठा रहा है.

अशोक खेमका ने अपने अचानक तबादले पर दुख व्यक्त किया है और कहा है कि वे परिवहन विभाग में भ्रष्टाचार कम करने की कोशिश कर रहे थे तो कवि ज्ञानेंद्र ने अशोक खेमका के तबादले पर एक छोटी कविता ट्वीट की है.

नीलेश मिश्रा का कहना है कि कोई राजनीतिज्ञ अपने आसपास ईमानदार अधिकारी नहीं चाहता.

तो यश सहगल की राय है कि अशोक खेमका का तबादला दिखाता है कि ईमानदार लोग कहीं नहीं चाहे जाते.

पत्रकार दिबांग जैसे लोग अशोक खेमका के साथ हुए व्यवहार पर खफा हैं.

शुताप पॉल की राय है कि भारत सरकार ईमानदार अधिकारियों को पत्थर बना रही है.

नई दिल्ली के चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की मुख्यमंत्री की उम्मीदवार रहीं किरण बेदी ने भी सवाल किया है कि आखिर माजरा क्या है.

पत्रकार रवीश कुमार ने अशोक खेमका के तबादले पर अपने उद्गार इस तरह व्यक्त किए.

संबंधित सामग्री