1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

राख में दबा दो हजार पुराना शहर

उन्यासी ईस्वी में जब वेसुवियस का ज्वालामुखी फटा था तो इटली का एक शहर उसकी राख के नीचे दब गया. अब 2000 साल बाद उसे देखकर लगता है कि ज्वालामुखी ने उसे अपने आगोश में छुपाया था ताकि आने वाली पीढ़ियां उसे देख सकें.

इटली का नेपल्स शहर वेसुवियस पहाड़ी की तलछटी में बसा है. यह ज्वालामुखी शहर के लिए विशाल पृष्ठभूमि भी है और भयानक खतरा भी. ज्वालामुखी को फटे 72 साल हो गए हैं लेकिन डर बना हुआ है इसलिए नेपल्स के लोगों ने खतरे के साए में जीना सीख लिया है. यह इटली का तीसरा सबसे बड़ा महानगर है और यहां करीब 10 लाख लोग रहते हैं. कारोबारी सल्वातोरे जुंगीयो कहते हैं, "हम सामान्य लोग हैं. हमारे लिए साथ होना बहुत जरूरी है. जब धंधा खराब चलता है तो हम एक दूसरे की मदद करते हैं."

नेपल्स का ऐतिहासिक सिटी सेंटर विश्व सांस्कृतिक धरोहर है. इसी वजह से यहां हर साल करीब 10 लाख टूरिस्ट भी आते हैं. यहां के म्यूजियम खास लोकप्रिय हैं. उनमें मुजियो डी कैपोडीमोंटे भी है जहां मध्ययुग से लेकर पुनर्जागरण काल तक की कला संजोई हुई है इलाके के अतीत में ले जाता है हरकुलेनियम जो रेल से नेपल्स से सिर्फ आधे घंटे की दूरी पर स्थित है. 79 ईस्वी में जब वेसुवियस का ज्वालामुखी फटा था तो उसने इस शहर को अपने आगोश में दबा दिया था, लेकिन कुछ इस तरह से कि वह बाद में आने वाली पीढ़ियों के लिए बचा रहे.

पुरातत्वविद डोमेनिको कामार्दो धरती के अंदर दफन इस शहर की सैर पर ले जाते हैं. वे बताते हैं, "हमें यहां रोमन काल की प्राचीन इमारतें मिलती हैं, जो तीसरे माले तक पूरी तरह संरक्षित हैं. अद्भुत बात यह है कि लकड़ी जैसी चीजें भी खिड़की और दरवाजों के फ्रेम में सुरक्षित हैं. यह हमें आज 2000 साल पहले की जिंदगी को समझने में मदद करता है." पास ही स्थित पॉम्पेई के विपरीत जहां ज्वालामुखी से निकली राख ने बहुत से घरों को नष्ट कर दिया था. हरकुलेनियम को बहकर आए तरल पत्थर ने पूरी तरह ढक लिया.

इसलिए इमारतों में लगी मोजाइक और भित्तिचित्र दुर्घटना के 2000 साल बाद भी अच्छी तरह संरक्षित है. डोमेनिको कामार्दो बताते हैं, "हरकुलेनियम में प्राचीन काल के रोमन लोगों की जिंदगी को बेहतर तरीके से समझा जा सकता है. फर्श पर मोजाइक और दीवार पर भित्तिचित्रों वाले बड़े बड़े घर हैं. यहां देखा जा सकता है कि अमीर और गरीब लोग किस तरह मिलजुलकर रहा करते थे. किस तरह वे दुकानों में मिला करते थे. दुकानदार यहां वाइन और अनाज बेचा करते थे, जो आज भी यहां सुरक्षित है. खाना यहां आने जाने वाले लोगों को बेचा जाता था या लोग उसे यहीं खाते थे."

हरकुलेनियम ज्वालामुखी का शिकार बनने से पहले कैसा दिखता होगा यह वर्चुअल आर्केयोलॉजी म्यूजियम में देखा जा सकता है. इतिहास को यहां 3डी फॉर्मेट में करीब से देखा जा सकता है और ज्वालामुखी के फटने को भी. म्यूजियम के निदेशक चीरो कचियोला बताते हैं, "हमारे लिए यह म्यूजियम एक एक्सपेरिमेंट है. और यह काम कर रहा है. खासकर युवा पीढ़ी को हम इस तरह खेल खेल में हरकुलेनियम की पुरातात्विक विरासत दिखा सकते हैं."

नेपल्स में सान ग्रेगोरियो आर्मेनो स्ट्रीट में शाम की सैर का मजा ही कुछ और है. यह सड़क हाथ से बनाए खिलौनों के लिए मशहूर है. यहां आने वाले सैलानियों के लिए नेपल्स की खास निशानी.

DW.COM