1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रहस्य बनी फ्लाइट एमएच370

मलेशिया एयरलाइंस के विमान का दो दिन दिन बाद भी कोई अता पता नहीं है. मलबे की खोज के बीच अब उन दो यात्रियों की जानकारी भी जुटाई जा रही है जो फर्जी पासपोर्ट के साथ विमान में सवार हुए.

शनिवार को वियतनाम की वायु सेना ने दक्षिण चीन सागर में फैले तेल के आधार पर विमान के क्रैश होने का अंदाजा लगाया है. वियतनाम सरकार के मुताबिक दक्षिणी इलाके में 10 से 15 किलोमीटर की दूरी तक तेल फैला है. अधिकारियों का कहना है कि तेल लापता विमान से ही निकला हो सकता है.

इससे पहले फ्लाइट की खोजबीन में शनिवार दोपहर वियतनाम, मलेशिया और आसियान देशों ने अपने 17 विमान और 9 पानी के जहाज लगाए. बाद में अमेरिकी नौसेना भी वहां पहुंची.

उड़ान भरने के घंटे भर लापता

मलेशिया की राजधानी कुआलालम्पुर से बीजिंग के लिए निकली यह फ्लाइट टेक ऑफ के घंटे भर बाद दक्षिण चीन सागर के ऊपर स्थानीय समयानुसार दो बजकर 40 मिनट पर गुम हो गई. 227 यात्रियों और चालक दल के 12 सदस्यों के साथ कुआलालम्पुर से निकली फ्लाइट संख्या एमएच370 को शनिवार सुबह साढ़े छह बजे बीजिंग पहुंचना था.

विमान में भारत, चीन, इंडोनेशिया, नीदरलैंड्स, न्यूजीलैंड, मलेशिया, अमेरिका और कनाडा समेत 14 देशों के यात्री थे. मलेशिया एयरलाइंस के मुताबिक फ्लाइट में चीन के 152 यात्री सवार थे. कई घंटों तक चले खोजी अभियान में किसी के जिंदा बचने का सुराग नहीं मिला है.

वियतनाम के सरकारी मीडिया ने सेना के हवाले से कहा है कि विमान थो चु द्वीप के पास हादसे का शिकार हुआ है.

Flugzeugabsturz Malaysia

एयरपोर्ट पर बेहाल परिजन

कोई आपातकालीन संदेश नहीं

मलेशिया एयरलाइंस के प्रमुख अहमद जौहरी याहया के मुताबिक विमान के पायलटों ने किसी भी तरह के खतरे की सूचना नहीं दी. आशंका है कि फ्लाइट के दौरान कुछ इतनी तेजी से हुआ कि पायलटों को इमरजेंसी संपर्क का समय भी नहीं मिला.

वियतनाम के नागरिक उड्डयन विभाग के निदेशक लाइ शुआन थांह के मुताबिक फ्लाइट एमएच370 ने कभी उनके एयर ट्रैफिक कंट्रोल से संपर्क ही नहीं किया. वियतनाम की सेना के उप प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वो वान तुआन के मुताबिक "वियतनाम की सीमा में दाखिल होने से एक मिनट पहले विमान से हर तरह का संपर्क और रडार सिग्नल टूट गया."

मलेशिया एयरलाइंस के मुताबिक विमान के मुख्य पायलट 53 साल के जहारी अहमद शाह थे. 1981 से मलेशिया एयरलाइंस के साथ काम कर शाह को 33 साल उड़ान का अनुभव था. वो 18,000 घंटे उड़ान भर चुके थे. 27 साल के को-पायलट फारिक हामिद को 2,800 घंटे उड़ान का अनुभव था.

Flugzeugabsturz Malaysia

दुनिया के हर कोने में रहने वाले यात्रियों के परिजनों को पूरी मदद: एयरलाइन

विमान का रिकॉर्ड

इस बीच लापता विमान (बोइंग 777-200) का मेंटेनेंस रिकॉर्ड भी निकाला गया है. 9 अगस्त 2012 को यह विमान शंघाई एयरपोर्ट में पार्किंग के दौरान चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस के विमान से टकराया था. टक्कर की वजह से जहाज के डैने की टिप टूट गई थी.

समंदर के ऊपर लापता होने वाले विमानों का सुराग मिलने में कई दिन लगना आम बात है. एक जून 2009 को एयर फ्रांस का विमान भी अटलांटिक महासागर के ऊपर अचानक लापता हुआ. हादसे का सुराग करीब 36 घंटे बाद मिला जब ब्राजील की वायु सेना को अटलांटिक में तैरता तेल देखा. उसी के आस पास कुछ मलबा भी दिखाई पड़ा. पांच साल पहले हुए इस हादसे में विमान में सवार सभी 228 लोग मारे गए. विमान का ब्लैक बॉक्स दो साल बाद मिला.

ओएसजे/एमजे (एपी, एएफपी)