1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

रशिया टुडे की पत्रकार रूस पर बरसीं

रूस की सरकारी प्रसारण सेवा रशिया टुडे के अमेरिकी पत्रकार यूक्रेन संकट के लिए रूस को ही जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. एक पत्रकार ने जहां रूसी नीतियों की टीवी पर आलोचना की, तो दूसरी पत्रकार वॉशिंगटन से अपना इस्तीफा भेज चुकी हैं.

लिज वाल नाम की यह महिला पत्रकार अमेरिकी राजधानी वॉशिंगटन से रशिया टुडे टेलीविजन के लिए समाचार पेश करती थीं. बुधवार को उन्होंने ने आरटी से इस्तीफा दे दिया. लिज ने कहा, "व्यक्तिगत रूप से मैं रूस सरकार के पैसे से चल रहे ऐसे संस्थान में काम नहीं कर सकती हूं जो पुतिन की हरकतों पर पर्दा डाले."

लिज ने आगे कहा, "मुझे अमेरिकी होने पर गर्व है और मैं सच को सामने लाने पर विश्वास करती हूं और इसीलिए इस न्यूजकास्ट के बाद में इस्तीफा दे रही हूं."

इस हफ्ते की शुरुआत में उनकी सहयोगी और रशिया टुडे की एंकर एबी मार्टिन ने न्यूज बुलेटिन में यूक्रेन संकट के लिए रूसी राष्ट्रपति की अलोचना की थी. कार्यक्रम के अंत में एबी कहा, "शो खत्म करने से पहले मैं यूक्रेन के राजनीतिक संकट और रूस के सैन्य कब्जे के बारे दिल से कुछ कहना चाहती हूं. सिर्फ इसलिए कि मैं यहां काम करती हूं, आरटी में, इसका मतलब यह नहीं कि मुझे संपादकीय स्वतंत्रता नहीं है. मैं किसी संप्रभु देश के मसलों में किसी और देश की दखल के पूरी तरह से खिलाफ हूं. जो रूस ने किया, वो गलत था. सैन्य हस्तक्षेप कभी जवाब नहीं हो सकता."

रूस में काम कर रहे एबी के सहयोगी भी उनकी टिप्पणी से नाराज हुए. दारया पुशकोवा के मुताबिक, "कैसे वो इसे एक कब्जे वाला इलाका कह रही हैं, उन्हें यह खुद देखना चाहिए."

कार्यक्रम के कुछ ही देर बाद रशिया टुडे ने एबी मार्टिन को यूक्रेन के संकटग्रस्त इलाके क्रीमिया भेजने का फैसला किया. हालांकि इसकी जानकारी सीधे मार्टिन को नहीं दी गई. उन्हें मीडिया के जरिए यह पता चला. रशिया टुडे ने दलील दी कि मार्टिन को यूक्रेन संकट की सही ढंग से जानकारी नहीं हैं, उन्हें मौके पर जाकर हकीकत अपनी आंखों से देखनी चाहिए.

इसके बाद मार्टिन ने ट्विटर के जरिए कहा कि वो क्रीमिया नहीं जाएंगी. इस विवाद के बाद चैनल ने बयान जारी कर कहा, संस्थान के लिए काम करने वाले पत्रकार को संपादकीय नीति का सम्मान करना चाहिए. अगर किसी मसले पर उनकी राय अलग हो तो उन्हें संपादकों से बात करनी चाहिए, वरना संस्थान छोड़ देना चाहिए. रशिया टुडे के इस बयान के बाद लिज वाल ने इस्तीफा दिया. रशिया टुडे ने इस्तीफे को खुद को सुर्खियों में लाने की कोशिश करार दिया है.

ओएसजे/एएम (एएफपी, रॉयटर्स)