1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

योजनाबद्ध कदमों से आगे बढ़ता आईएस

पाकिस्तान में बरामद हुए कुछ दस्तावेज आतंकी संगठन आईएस के दुनिया पर कब्जा कर खिलाफत राज स्थापित करने के सपनों का खुलासा करते हैं. भारत अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ ऐसी संगठित आतंकियों से निबटने के तरीके तलाश रहा है.

इराक और सीरिया में सक्रिय इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने पूरे विश्व पर खिलाफत स्थापित करने के जो सपने देखे, उनके लिए विस्तृत योजना भी बनाई है. पाकिस्तान के कबायली इलाके में मिले दस्तावेजों की तुलना हिटलर की आत्मकथा माइन कांप्फ से की जा रही है. इसमें अगले पांच सालों में यानि 2020 तक आईएस के पूरी दुनिया में खिलाफत का दावा करने की बात है.

उर्दू में लिखे इन दस्तावेजों में ऐसे नक्शे भी हैं जो साफ दिखाते हैं कि आईएस ने अपना मकसद हासिल करने के लिए कितने विस्तार से योजना बनाई है. इस मैप में पूरे भारतीय महाद्वीप को भी 2010 तक खिलाफत के कब्जे में लेने का चित्रण है.

पहले ही बहुत तबाही झेल चुका सीरिया का पालमिरा इलाका एक बार फिर आईएस आतंकियों का निशाना बना है. पालमिरा की ऐतिहासिक धरोहरों को वे पहले भी नष्ट कर चुके हैं. सीरियाई अधिकारियों ने बताया है कि अब आईएस ने प्राचीन शहर पालमिरा के 81 वर्षीय पुरावशेष प्रमुख खालिद असाद को बहुत बेरहमी से मार डाला है.

अमेरिका ने आतंकवाद को एक साझी चुनौती बताते हुए भारत और पाकिस्तान समेत सभी देशों को मिलकर आईएस जैसे आतंकी गुटों का सफाया करने के प्रयास करने की बात दोहराई है. हाल ही में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी ने भी अपने संयुक्त अरब अमीरात के दौरे पर क्राउन प्रिंस जायेद अल नाह्यान के साथ द्विपक्षीय महत्व के मुद्दों के अलावा इलाके की स्थिति, खासकर कट्टरपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट और अन्य कट्टरपंथी संगठनों से बढ़ते आतंकवादी और चरमपंथी खतरे पर भी चर्चा की.

एमनेस्टी इंटरनेशनल पहले ही आईएस के चंगुल से भागी 40 लड़कियों से बात के आधार पर रिपोर्ट दे चुका है कि इस्लामी कट्टरपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के लड़ाके यजीदी लड़कियों का यौन शोषण और उनकी नीलामी जैसे काम करते रहे हैं. अब यजीदी महिलाओं ने भी इस्लामिक स्टेट के खिलाफ संगठित होकर हथियार उठा लिए हैं.

आरआर/एमजे

DW.COM

संबंधित सामग्री