1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

यूसुफ हैं संन्यास तोड़ने को तैयार

पाकिस्तान के बल्लेबाज मोहम्मद यूसुफ अपना संन्यास तोड़ने के लिए तैयार बैठे हैं और उनका कहना है कि वह किसी भी कप्तान के अधीन क्रिकेट खेल सकते हैं. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने यूसुफ और यूनुस खान की वापसी के संकेत दिए हैं.

default

किसी की भी कप्तानी मंजूर

पाकिस्तान क्रिकेट टीम जैसे नतीजे देती है, उसके खिलाड़ी भी वैसे ही हैरानी भले फैसले करते हैं. कभी रिटायरमेंट के लिए जिद पकड़ चुके मोहम्मद यूसुफ अब टीम में लौटने को तैयार हैं. वह भी जल्द से जल्द. ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौरे के बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने दो सबसे सीनियर खिलाड़ियों मोहम्मद यूसुफ और यूनुस खान पर अनिश्चितकाल के लिए प्रतिबंध लगा दिया था.

Mohammad Yusuf

इसके बाद यूसुफ ने क्रिकेट को अलविदा कहते हुए संन्यास ले लिया. कई बार अनुरोध किए जाने पर भी वह लौटने को तैयार नहीं थे. लेकिन अब शाहिद अफरीदी के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद यूसुफ अपना संन्यास तोड़ने को तैयार हैं. पाकिस्तान में सलमान बट को कप्तानी का जिम्मा सौंपा गया है, जो यूसुफ से बहुत जूनियर हैं और यूसुफ का कहना है कि वह किसी भी कप्तान के साथ क्रिकेट खेल सकते हैं.

क्रिकइंफो वेबसाइट के मुताबिक यूसुफ ने कहा, "मैं किसी भी समय अपनी राष्ट्रीय टीम की जरूरत पूरा करने के लिए तैयार हूं. अगर टीम को मेरी दरकार नहीं, तो मैं रिटायर ही रहूंगा. लेकिन अगर उन्हें मेरी जरूरत है, तो मैं वापस आने को और अपने देश की सेवा को तैयार हूं. अगर पीसीबी इज्जत के साथ मुझसे अनुरोध करे, तो मैं जाकर क्रिकेट खेल सकता हूं."

शाहिद अफरीदी के संन्यास ले लेने के बाद पाकिस्तान क्रिकेट टीम में शोएब मलिक की वापसी हुई है. लेकिन यूसुफ और शोएब मलिक के बीच का विवाद जगजाहिर है. अबकी बार 25 साल के सलमान बट को पाकिस्तान की कप्तानी सौंपी गई है, जो तीन साल में पांचवें कप्तान होंगे. यूसुफ ने इस बात के संकेत दे दिए हैं कि बट की कप्तानी से उन्हें कोई एतराज नहीं है. उन्होंने बताया है कि वह पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के संपर्क में हैं.

पीसीबी ने यूनुस खान पर भी अनिश्चितकाल का प्रतिबंध लगाया था, जो पहले ही हटाया जा चुका है. ऐसे में तकनीकी तौर पर यूसुफ के साथ यूनुस खान भी टीम में लौट सकते हैं. हालांकि इस बात की कम ही गुंजाइश है.

यूसुफ की कप्तानी में पाकिस्तान ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था, जहां वह बुरी तरह नाकाम रहा था. ट्वेन्टी 20, टेस्ट और वनडे, सभी क्रिकेट मैच हार गया था, जिसके बाद खिलाड़ियों में अनुशासनहीनता और आपसी रंजिश के आरोप लगे. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कदम उठाते हुए यूसुफ और यूनुस पर अनिश्चितकाल के लिए प्रतिबंध लगा दिया था, जबकि दूसरे खिलाड़ियों पर भी पाबंदी और जुर्माना ठोंका गया था. लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट में जैसा आम तौर पर होता है, धीरे धीरे सबकी पाबंदियां खत्म हो गईं. यूसुफ ने संन्यास का एलान कर दिया था, लेकिन वह भी ग्राउंड पर लौटते नजर आ रहे हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः एस गौड़

संबंधित सामग्री