1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूरो देशों के लिए उम्मीद की किरण

यूरोपीय संघ के देशों ने एक ऐतिहासिक समझौते में तय किया है कि यूरोपीय केंद्रीय बैंक को ईयू देशों के बैंकों पर निगरानी रखने की जिम्मेदारी दी जाएगी. यूरोपीय नेताओं को अब यकीन है कि आर्थिक संकट से वे उबर सकेंगे.

कई घंटों की बातचीत के बाद गुरुवार सुबह यूरोपीय नेता आखिरकार एकमत हुए. 2012 में साल भर यूरोपीय संघ नेता ग्रीस, स्पेन और पुर्तगाल में आर्थिक हालत और यूरो की बिगड़ती स्थिति पर बात करते रहे. इस पृष्ठभूमि पर यूरोपीय केंद्रीय बैंक ईसीबी का यूरो क्षेत्र में बैंकों पर निगरानी करने का फैसला काफी अहम है. जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा, "आप इस समझौते की अहमियत के बारे में जितना कहें, उतना कम है. हम जर्मनी की मूल शर्तों को सुरक्षित करने में सफल हुए."

आगे की मुश्किलें

हालांक यूरो क्षेत्र के लिए आराम का वक्त अब भी नहीं आया है. बैंकों को एक करना होगा और कर्ज में डूबे बैंकों को बंद करने या उन्हें राहत दिलाने पर सोचना होगा. उसके बाद बैंकों को कर्ज देने वालों के लिए गारंटी बनानी करनी होगी और फिर इन सब फैसलों पर दोबारा यूरोपीय देश राजनीतिक और वित्तीय स्तर पर बहस करेंगे.

2013 में अभी कुछ ही दिन बाकी हैं और 2012 ईयू के लिए मुश्किल रहा है. 2013 में भी राहत मिलने के आसार कम लग रहे हैं. पहले तो स्पेन के बैंकों को बचाना होगा, जर्मनी में अगले साल आम चुनाव हो रहे हैं और इटली के प्रधानमंत्री मारियो मोंटी ने इस्तीफा दे दिया है. अगले साल इटली में आम चुनावों में पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बेर्लुस्कोनी भी खड़े हो रहे हैं और भ्रष्टाचार के उनके इतिहास ने यूरोप में आर्थिक संकट के और उभरने की चिंता बढ़ा दी है.

Deutschland EZB Präsident Mario Draghi Pressekonferenz in Frankfurt

यूरोपीय केंद्रीय बैंक प्रमुख मारियो द्रागी

क्या करना है

2010 में यूरो संकट के बाद इस समझौते को यूरो क्षेत्र की सबसे बड़ी सफलता मानी जा सकती है. इसमें खास बात यह है कि कर्ज में डूबे बैंकों और इन देशों की सरकारों को वित्तीय तौर पर अलग किया जा सकेगा, यानी कि अगर बैंक कर्ज में डूबा है तो उस देश की सरकार को बैंक बचाने के लिए अपनी गारंटी नहीं देनी पड़ेगी.

अगर संसद अनुमति देता है तो सबसे पहले यूरो क्षेत्र में बैंकों के एकीकरण के लिए एक कानूनी ढांचा बनाना होगा और इसके लिए यूरोपीय संसद से अनुमति लेनी होगी. यूरोपीय केंद्रीय बैंक को फिर कुछ लोगों को नियुक्त करने होंगे और इस योजना पर अमल करना होगा. यूरोपीय आयोग के अधिकारियों का कहना है कि ईसीबी 150 से 200 बैंकों पर सीधे निगरानी रखेगी. इन बैंकों में यूरो क्षेत्रों के अलग अलग देशों में उधार देने वाले बैंकों के अलावा सरकारी बैंक भी शामिल हैं. अगर पूरे यूरो क्षेत्र में कुल 6,000 बैंकों में से किसी भी एक को परेशानी होगी तो ईसीबी को इनमें हस्तक्षेप करने का अधिकार होगा. इसके अलावा यूरो देशों को कर्ज में डूबे बैंकों के लिए खास फंड और बैंकों में डिपॉजिट रखने वालों के लिए गारंटी का बंदोबस्त करना होगा.

Merkel Regierungserklärung zum EU Gipfel

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल

इस समझौते को पटरी पर लाने में सबसे बड़ी परेशानी ब्रिटेन जैसे देशों में होगी जहां यूरो मुद्रा का इस्तेमाल नहीं होता और जहां जनता यूरोपीय संघ के पक्ष में नहीं है. स्वीडेन के वित्त मंत्री ने पहले से कह दिया है कि बैंकों का एकीकरण यूरोप के लिए एक दुखद दिन होगा. इसकी वजह यह भी है कि देशों को अपनी वित्तीय योजनाएं अब मिलकर बनानी होंगी और एक दूसरे के कर्जों को अदा करने में मदद करनी होगी. इसके लिए यूरोपीय यूनियन की शुरुआती संधियों में भी बदलाव लाने होंगे.

एमजी/एनआर(डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री