1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूरोप घूमना होगा आसान

दुनिया भर के पर्यटकों का यूरोप घूमने का अरमान पूरा करने और यूरोपीय देशों में पर्यटकों से होने वाली आमदनी बढ़ाने के लिए यूरोपीय संघ (ईयू) ने मिल कर शेंगेन वीजा को आसान बनाने के कई प्रस्ताव रखे हैं.

ईयू के प्रस्तावों में शेंगेन वीजा के नियमों को आसान बनाने की बात कही गई है. कार्यकारिणी की राय है कि विदेशी सैलानियों को 'मल्टीपल एंट्री' यानि ऐसी सुविधा मिलनी चाहिए जिससे वे ईयू के सभी सदस्य देशों में जितनी बार चाहें आ जा सकें. इससे न सिर्फ पर्यटकों को सुविधा होगी बल्कि उनसे पर्यटक स्थलों को होने वाली आमदनी भी बढ़ेगी. आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे यूरोप के कई देशों को इससे काफी फायदा हो सकता है. यूरोपीय आयोग की मानें तो सिर्फ पर्यटन बढ़ाने से पांच साल में करीब 130 अरब यूरो की कमाई होगी और 13 लाख नई नौकरियां पैदा होंगी.

शेंगेन क्षेत्र में कुल 22 देश आते हैं. ईयू के कुल 28 सदस्य देशों में से छह देशों, बुल्गारिया, क्रोएशिया, आयरलैंड, साइप्रस, रोमानिया और ब्रिटेन को छोड़कर बाकी सभी देशों में केवल एक वीजा लेकर यात्रा की जा सकती है. इसके अलावा उसी एक शेंगेन वीजा से पर्यटक आइसलैंड, लिष्टेनश्टाइन, नॉर्वे और स्विट्जरलैंड जैसे गैर यूरो देशों में भी जा सकते हैं. फिर भी ईयू की होम अफयर्स कमिश्नर सिसिलिया माल्मश्ट्रोम को लगता है, "यूरोप को और भी स्मार्ट वीजा नीति की जरूरत है."

वीजा नियमों के नए प्रस्ताव पेश करने के समय माल्मश्ट्रोम ने मंगलवार को कहा, "हमें और ज्यादा पर्यटकों, व्यापारियों, रिसर्चरों, छात्रों, कलाकारों और सांस्कृतिक लोगों को आकर्षित कर अपने यहां लाने की जरूरत है." दूसरी ओर गैर कानूनी रूप से ईयू में प्रवेश करने वाले प्रवासियों को रोकने की भी जरूरत है. माल्मश्ट्रोम ने कहा कि इन नई वीजा नीतियों में भी ईयू की सीमाओं पर सुरक्षा से कोई समझौता नहीं होगा. ईयू के इंडस्ट्री कमिश्नर अंतोनियो तयानी कहते हैं, "पर्यटन यूरोप की वृद्धि के लिए इंजन जैसा है और संकट की स्थिति में भी यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण पहलू साबित हुआ है."

अगर वीजा नीति को और आसान बना दिया जाता है तो उससे चीन, भारत, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका और यूक्रेन जैसे छह महत्वपूर्ण देशों से आने वाले पर्यटकों की संख्या में 60 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी की जा सकेगी. 2013 में दुनिया भर के कुल 172 लाख लोगों ने शेंगेन वीजा के लिए अर्जी डाली, जिसमें सबसे ज्यादा उम्मीदवार रूस के थे. वीजा मिलने में झमेलों के चलते कई बार पर्यटक दूसरे देशों की यात्रा करने से कतराते हैं. नए प्रस्तावों में वीजा मिलने में लगने वाले समय को घटाने, एप्लीकेशन फॉर्म और ऑनलाइन प्रक्रियाओं को आसान बनाने, और अनिवार्य ट्रैवल इंश्योरेंस की शर्त को खत्म करने की बात कही गई है. इसके अलावा पूरे ईयू में घूमने के लिए एक बार में पूरे एक साल का वीजा देने का भी सुझाव है. इन सुझावों को ईयू के सदस्य देशों और यूरोपीय संसद की मान्यता मिलना बाकी है. कमीशन का अंदाजा है कि सारी प्रक्रिया पूरी होने में 2015 तक का समय तो लग ही जाएगा.

आरआर/एएम(डीपीए)

संबंधित सामग्री