1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूजर के स्मार्टफोन तक पहुंचते हैं प्रतिबंध

अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध आपकी जेब में मौजूद स्मार्टफोन पर भी असर डालते हैं. यकीन न आए तो ईरान को देख लीजिए.

ईरान में अमेरिकी अमेरिकी एप्पल का विरोध हो रहा है. एप्पल ने एप्पल स्टोर से कई ईरानी ऐप्स हटा दिये हैं. एक मंत्री समेत देश के हजारों लोग इसका विरोध कर रहे हैं. एप्पल के मुताबिक वह एक अमेरिकी कंपनी है और अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों का उसे पालन करना है.

लेकिन ईरान इसे आम उपभोक्ता अधिकारों का हनन कह रहा है. ईरान के इंफॉर्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी मंत्री मोहम्मद जावे जाहरोमी के मुताबिक, "उपभोक्ता अधिकारों की बात की जाए तो एप्पल ने इसे नहीं माना. आईटी का इस्तेमाल इंसान की जिंदगी बेहतर और सुविधाजनक बनाने के लिए होना चाहिए, इसे दो देशों के बीच भेदभाव का औजार नहीं बनाना चाहिए."

ईरान के सोशल मीडिया में  #StopRemovingIranianApps ट्रेंड कर रहा है. आईफोन बनाने वाली कंपनी एप्पल ने हाल ही में ईरानी ऐप बाजार से 10 ऐप्स हटाए हैं. ये सभी ऐप्स ईरान में सबसे ज्यादा लोकप्रिय थे. इनमें ऑनलाइन शॉपिंग ऐप डिजिकाला और बामिलो शामिल हैं.

ऐप कंपनियों के मुताबिक उनके पास यह संदेश आ रहा है कि, "हम आपका ऐप ऐप स्टोर में शामिल नहीं कर पा रहे हैं." मैसेज में यह भी कहा गया है कि अमेरिकी प्रतिबंध नियामवली के चलते प्रतिबंध का सामना कर रहे देशों में इन ऐप्स से जुड़ी सेवाएं नहीं दी जा सकती.

अमेरिका और ईरान के बीच 2015 में परमाणु समझौता हुआ. समझौते के बाद ईरान के नागरिक वायु परिवहन क्षेत्र को कई रियायतें दी गईं. लेकिन अमेरिकी कंपनियों और अमेरिकी नागरिकों पर अब भी ईरान के साथ कारोबार करने पर कई तरह के प्रतिबंध हैं.

ईरान में करीब 4 करोड़ लोगों के पास स्मार्टफोन हैं. इनमें से 60 लाख आईफोन यूजर हैं. डेलियोन ऐप के वाइस चैयरमैन मेहदी तागीजादेह ने एप्पल पर आरोप लगाते हुए कहा, "एप्पल ने हमारे मैसेज का साफ ढंग से जवाब नहीं दिया है."

ईरान के 4,500 नागरिकों ने एक ऑनलाइन याचिका पर भी दस्तखत किये हैं. याचिका में एप्पल के सीईओ टिम कुक से एप्पल के ग्राहकों के अधिकारों की रक्षा करने की मांग की गई है. इस विरोध की आवाज अमेरिका में भी सुनाई पड़ रही है. पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के निजी सहायक रह चुके फेरियल गोवाशिरी कहते हैं, "तकनीक तभी श्रेष्ठ है जब वह लोगों को साथ लाए. हमें इसे विकसित करने या दूसरे द्वारा इस्तेमाल करने पर किसी तरह की सीमाओं में नहीं बांधना चाहिए." गूगल के ऐप मार्केट एंडरॉयड में भी कई पेड ऐप्स नहीं मिल रहे हैं.

(आईफोन के बारे में कितना जानते हैं?)

ओएसजे/एनआर (एएफपी)​​​​​​​

 

DW.COM

संबंधित सामग्री