1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूक्रेन पर अड़े रूस को शांति का एक और मौका

यूरोपीय संघ के नेता वैसे तो शनिवार को यूक्रेन संकट के मामले में रूस पर और प्रतिबंध लगाना चाहते थे, लेकिन नए शीत युद्ध और आर्थिक नुकसान से बचने के लिए रूस को शांति के लिए एक और मौका दिया गया है.

उधर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रविवार को रूसी टीवी नेटवर्क चैनल 1 में कहा कि सोमवार को होने वाली बातचीत में दक्षिणपूर्वी यूक्रेन को देश के तौर पर स्थापित किए जाने और राजनीतिक संगठन के सवालों पर केंद्रित होना चाहिए. यह इंटरव्यू ऐसे समय में आया है जब यूरोपीय संघ ने रूस पर और व्यापार प्रतिबंधों की धमकी दी है.

ईयू ने कहा है कि अगर मॉस्को यूक्रेन में अपनी सैन्य कार्रवाई खत्म नहीं करता तो उस पर कड़े प्रतिबंध लगाए जाएंगे. लेकिन ब्रसेल्स में हुई बातचीत के दौरान नेताओं के बीच गहरे मतभेदों के कारण यह तय नहीं किया जा सका है कि यह रोक कब लगाई जाएगी.

यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने बातचीत के दौरान लंबी रिपोर्ट पेश की. साथ ही उन्होंने धमकी दी कि अगर रूस सैनिक अलगाववादियों को हथियार देना बंद नहीं करेगा तो युद्ध हो सकता है. रविवार को यूरोपीय संघ के नेताओं ने कहा कि एक सप्ताह में नए प्रतिबंधों की सूची जारी की जाएगी.

ईयू नेताओं के आपसी मतभेद

लेकिन रूस पर लगाए जाने वाली रोक का असर यूरोपीय अर्थव्यस्थाओं पर क्या होगा, इस बारे में चिंता बरकरार है और यह भी कि रूस यूरोप के कई देशों में ईंधन का आपूर्तिकर्ता है, जिससे कई देशों को प्राकृतिक गैस जाती है. अगर ईयू नेताओं के आपसी मतभेद खत्म नहीं होते, तो प्रतिबंध लगाना मुश्किल हो जाएगा.

यूरोपीय परिषद ने रूस से अपनी "सेना और सैन्य साजोसामान तुरंत हटा लेने" की अपील की है. आयोग रूस पर प्रतिबंधों का खाका तैयार करेगा जिसे इसी सप्ताह में आंका जाएगा.

Brüssel Merkel Poroschenko 30.08.2014

यूक्रेन के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको के साथ जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल

जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा, "अगर मौजूदा हालात बने रहते हैं या फिर और खराब हो जाते हैं तो नए प्रतिबंधों पर फैसला लिया जाएगा." उन्होंने कहा कि प्रतिबंध किसी भी बिजनेस सेक्टर पर लगाए जा सकते हैं. शिखर सम्मेलन के चेयरमैन हैरमन फान रॉम्पॉय ने प्रतिबंधों की समय सीमा के बारे में कहा, "यूक्रेन में हालात कैसे विकसित होते हैं, फैसला इस पर निर्भर करता है. कोई ठोस कसौटी नहीं है लेकिन मैं सुनिश्चित कर सकता हूं कि सभी इस पर पक्के हैं कि हमें तेजी से आगे बढ़ना होगा."

कूटनीतिक रास्ता

पोलैंड के प्रधानमंत्री डोनाल्ड टस्क रॉम्पॉय के बाद चेयरमैन बने हैं. उन्होंने प्रतिबंधों के कारण यूरोपीय संघ के देशों को होने वाली मुश्किलों पर चिंता जताई लेकिन कहा, "यह कीमत हमें चुकानी ही पड़ेगी."

यूरोपीय संघ की नई विदेश नीति प्रभारी अब इटली की विदेश मंत्री फ्रेडेरिका मोगेरिनी होंगी. पदासीन होने के बाद उन्होंने कहा, "जिस दौरान हम प्रतिबंधों के स्तर पर सोच रहे हैं और काम कर रहे हैं उसी दौरान हमें कूटनीतिक रास्ता भी खुला रखना होगा. इस उम्मीद पर कि एक बुद्धिमत्ता से भरा संयोजन प्रभावी हो सकता है."

जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल ने साफ किया है कि वह यूक्रेन को हथियार नहीं देंगी. उन्होंने कहा कि इकलौता राजनीतिक हल संकट को समाप्त करना ही है.

एएम/आईबी (रॉयटर्स, एएफपी)

संबंधित सामग्री