1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

यूं मनाया मैर्केल ने जन्मदिन

एक हजार से ज्यादा मेहमान लेकिन एक भी तोहफा नहीं, गुरूवार रात बर्लिन में जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल का जन्मदिन कुछ विशेष अंदाज में बीता.

अंगेला मैर्केल का दिन आम तौर पर काफी व्यस्त होता है. लगातार एक के बाद एक मीटिंग. कभी बर्लिन में तो कभी ब्रसेल्स में. उन्हें जर्मनी के साथ साथ पूरे यूरोप का ध्यान रखना होता है. जन्मदिन की तारीख भले ही ब्रसेल्स में यूरोपीय नेताओं के साथ बैठक के बीच आई हो, लेकिन अपने 60वें जन्मदिन की शाम उन्होंने इन बैठकों से दूर बर्लिन में रहने की कोशिश की. एक रात पहले वे ब्रसेल्स में ही थीं.

हैपी बर्थडे टू यू

बैठक खत्म होते होते आधी रात हो गयी थी. जब तक प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई रात के डेढ़ बज चुके थे. इसलिए कहना गलत नहीं होगा कि जन्मदिन के पहले पल तो मैडम चांसलर ने पत्रकारों के साथ ही बिताए. और उनके लिए 'हैपी बर्थडे टू यू' भी एक पत्रकार ने ही गया.

उडो वान काम्पेन जर्मनी के वरिष्ठ टीवी पत्रकार हैं और ब्रसेल्स से रिपोर्ट करते हैं. उन्होंने मैर्केल के लिए जो गीत गाया, उसकी सोशल मीडिया पर खूब खिल्ली उड़ाई जा रही है. ट्विटर पर यह वीडियो कुछ ही देर में वायरल हो गया. बाद में नेकदिल मैर्केल उनके बचाव में आईं और कहा, "मुझे भी साथ में गाना चाहिए था, फिर शायद इतना अजीब नहीं लगता."

बर्लिन में पार्टी

इस कॉन्फ्रेंस के फौरन बाद मैर्केल बर्लिन के लिए रवाना हुईं. दिन भर आराम करने के बाद शाम में वे अपनी पार्टी सीडीयू के मुख्यालय पहुंची, जहां उनका जन्मदिन मनाने के लिए 1,000 से ज्यादा वीआईपी मौजूद थे. खास मेहमान थे 62 साल के इतिहासकार युर्गेन ओस्टरहामेल, जिन्हें बदलती दुनिया पर बोलने के लिए इस शाम खास तौर पर बुलाया गया था.

मैर्केल अपनी पार्टियों में इस तरह के लेक्चर पसंद करती हैं. राजनीति में आने से पहले उन्होंने भौतिक विज्ञान की पढ़ाई की. भौतिकी में ही उन्होंने पीएचडी भी की. उनके पति योआखिम जाउअर रसायनशास्त्र के प्रोफेसर हैं. विज्ञान से जुड़ाव के ही कारण अपने 50वें जन्मदिन पर उन्होंने प्रोफेसर वोल्फ जिंगर को लेक्चर देने के लिए बुलाया था, जिन्होंने कॉग्निटिव साइंस पर बात की थी.

कोल की नसीहत

उनकी जन्मदिन की पार्टियों में राजनीतिज्ञ भी आते हैं. गौरतलब है कि दस साल पहले मैर्केल के जन्मदिन की पार्टी के दौरान ही पूर्व विदेश मंत्री गीडो वेस्टरवेले ने अपने समलैंगिक होने का खुलासा किया था. इस बार वे पार्टी में शामिल नहीं हो सके क्योंकि वे कैंसर का इलाज करा रहे हैं.

जर्मनी के पूर्व चांसलर और मैर्केल के गॉडफादर कहे जाने वाले हेल्मुट कोल ने अखबार 'बिल्ड' में मैर्केल के नाम बधाई संदेश लिखा और उन्हें यूरोप के मूल्यों के लिए प्रतिबद्ध रहने की नसीहत दी. 84 साल के कोल अब सार्वजानिक रूप से कम ही नजर आते हैं. मैर्केल को राजनीति में लाने का श्रेय उन्हीं को जाता है. अपने पत्र में उन्होंने "हमारे अमेरिकी मित्रों" की भूमिका के बारे में भी लिखा है.

मोदी की बधाई

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्राजील से वापस लौटते हुए कुछ देर के लिए फ्रैंकफर्ट में थे. मैर्केल से उनकी मुलाकात तो नहीं हो पाई लेकिन उन्होंने टेलिफोन पर बात जरूर की और चांसलर को जन्म दिन की बधाई दी. बाद में उन्होंने ट्वीट किया, "चांसलर मैर्केल के साथ टेलिफोन पर बात की. जन्मदिन की शुभकामनाएं दी और वर्ल्ड कप में जर्मनी की जीत पर बधाई दी."

मैर्केल को बधाई संदेश भेजने वालों में दुनिया भर के फुटबॉल सितारे भी शामिल हैं. हाल ही में ब्राजील में फुटबॉल वर्ल्ड कप के फाइनल मैच के दौरान मैर्केल का जोश सुर्खियों में रहा. फीफा अध्यक्ष सेप ब्लाटर ने ट्वीट किया है, "(जर्मनी की) राष्ट्रीय टीम ने उन्हें (मैर्केल को) बहुत अच्छा तोहफा दिया है." वहीं अमेरिका के कोच और जर्मनी के फुटबॉल स्टार रह चुके युर्गेन क्लिंसमन ने तो उन्हें "हमारी फुटबॉल चांसलर" का नाम दे दिया है.

फेसबुक और ट्विटर पर आम जनता भी 'मुटी' यानि मां मैर्केल को बधाई संदेश देते रहे. अपने जन्मदिन के मौके पर मैर्केल ने मेहमानों को तोहफे लाने से मना किया था. उन्होंने आमंत्रित लोगों से खोसे करेरास ल्यूकीमिया फाउंडेशन को तोहफे के पैसे दान देने की अपील की.

आईबी/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री