1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

युवा सपनों को पूरा करने की चुनौती

भारत से हर साल हजारों छात्र विदेश में पढ़ाई का ख्वाब बुनते हैं. सवाल उठता है कि क्या दुनिया भर में ग्लोबल पावर के रूप में उभरता भारत अपने युवाओं के सपनों को पूरा करने का काबिल अभी नहीं बना है.

default

क्यों विदेशों का रुख करते हैं छात्र

हर बड़ी कामयाबी की बुनियाद अकसर एक छोटा सा सपना होता है. जब धीरे धीरे सपनों का विस्तार होता है तो उन्हें साकार करने के लिए लंबी उड़ानों की जरूरत होती है. बेहतर करियर और फिर बेहतर जिंदगी की इस उड़ान का एक बड़ा पहलू विदेश में पढ़ाई रहा है. किसी को उसकी काबलियत से मौका मिलता है तो कोई एजेंटों को पैसे देकर जुगाड़ भिड़ाता है.

दिमाग की बादशाहत

बीसवीं सदी में ब्रिटेन के महान नेता विंस्टन चर्चिल ने कहा था, "भविष्य का साम्राज्य मस्तिष्क का साम्राज्य होगा." भारतीय युवाओं पर यह बात बिल्कुल सही बैठती है. अब बात अमेरिकी अंतरिक्ष अनुसंधान एजेंसी नासा ही हो या फिर सिलिकॉन वैली की मशूहर कंपनियों की, भारतीयों के तेज दिमाग का लोहा सब मानते हैं. तो फिर क्या वजह है कि भारत की इन प्रतिभाओं को अपने ही

BdT Ardh Kumbh Mela

उम्मीदों को पंख कौन देगा

देश में संवारा नहीं जाता. एमटैक की पढ़ाई पूरी करने वाले शिवेंदु पराशर कहते हैं कि भारत में रिसर्च के लिए पर्याप्त अवसर नहीं हैं. इसीलिए भारत के छात्र विदेशों का रुख करते हैं.

अभी शिवेंदु एक इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाते हैं और फाइबर ऑप्टिक्स में पीएचडी करना चाहते हैं, जिसके लिए भारत में कोई खास व्यवस्था नहीं है. भारतीय शिक्षा व्यवस्था में सुधारों पर लंबी चौड़ी बातें होती हैं लेकिन नतीजा वही ढाक तीन पात रहा है. इस दिशा में बुनियादी कदम तो उठाए गए हैं, लेकिन अभी काफी कुछ होना बाकी है. बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर के पद पर काम कर रहे युवा राजीव पांडे कहते हैं, "भारत में मौके तो बढ़े हैं लेकिन उसी हिसाब से युवा लोगों की आबादी भी बढ़ी है. हमारे यहां बुनियादी और प्राथमिक शिक्षा का दायरा बढ़ा है लेकिन स्नातक के बाद शिक्षा की गुणवत्ता में अब भी बहुत सुधारों की जरूरत है."

ग्लोबल पावर भारत

वहीं तस्वीर का एक पहलू यह भी है कि दुनिया की अकेली महाशक्ति अमेरिका भी अपनी आर्थिक सेहत को दुरुस्त करने के भारत की तरफ उम्मीद भरी नजरों से देख रहा है. पिछले साल भारत दौरे पर पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को पूरे समय अमेरिकियों की नौकरियों की चिंता ही लगी रही. उन्होंने भारत को एक ग्लोबल पावर भी कहा.

ऐसे में युवा यूनिवर्सिटी प्रोफेसर अशोक शर्मा मानते हैं कि विदेश में पढ़ाई को लेकर छात्रों में दीवानापन कुछ कम हुआ है. वह कहते हैं, "भारत का आर्थिक

BdT Education Day in Tonga

बढ़ती युवा आबादी, बढ़ती चुनौतियां भी

विकास दुनिया भर के लिए भरोसे की बड़ी वजह है. मुझे लगता है कि विदेश जाने का चलन दो तीन साल में काफी कम हुआ है. हाल ही में चंडीगढ़ में ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त ने प्रेस कांफ्रेस कर कहा कि उनके देश में जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या 70 प्रतिशत तक कम हो गई है."

हालांकि ऑस्ट्रेलिया जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में आई कमी की वजह को वहां भारतीयों पर होने वाले हमलों को भी कहा जा सकता है. लेकिन भारतीय कंपनियों के बढ़ते रुतबे और वहां दुनिया की तमाम बड़ी कंपनियों की मौजूदगी भी युवाओं को बेहतर करियर के मौके मुहैया करा रही हैं.

सरकार भी युवाओं के दम पर बेहतर कल से सपने देख रही है. अशोक शर्मा बताते हैं, "मानव संसाधन विकास मंत्रालय का कहना है कि भारत को अगले दस

DW.COM