1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

युद्ध की चपेट में 10 लाख से भी अधिक सीरियाई

युद्ध की चपेट में आए दस लाख से भी ज्यादा सीरियाई लोग अपने दी देश में घेराबंदी में हैं. एक गैर सरकारी संगठन की नई रिपोर्ट सीरियाई संकट को यूएन के अनुमान से कहीं ज्यादा बुरा बता रही है.

पांच साल से युद्ध की चपेट में आए सीरिया के 46 समुदायों का अध्ययन करने वाला सीज वॉच प्रोजेक्ट दिखाता है कि 10 लाख से भी ज्यादा लोग यहां घेराबंदी में फंसे हैं. एक डच समूह और अमेरिकी संगठन के संयुक्त प्रोजेक्ट सीज वॉच ने पाया कि इनमें से ज्यादातर सीरियाई इलाकों को राष्ट्रपति बशर अल असद की वफादार सेना ने घेर रखा है. रिपोर्ट में लिखा है, "सीज वॉच का नया डाटा दिखाता है कि 10 लाख से भी ज्यादा सीरियाई दमिश्क, दमिश्क देहात, होम्स, दियर एजोर और इदलीब प्रशासनिक इलाकों में घिरे हुए हैं."

वीडियो देखें 02:25

अलेप्पो: लगातार बढ़ती शरणार्थियों की तादाद

इस इलाके के लोगों पर "जान जाने का गंभीर खतरा" मंडरा रहा है क्योंकि उन्हें खाने पीने से लेकर बिजली, पानी सब तरह की कमी झेलनी पड़ रही है. रिपोर्ट आगे बताती है, "इस क्षेत्र में संकट यूएन के कोऑर्डिनेशन ऑफ ह्यूमैनिटेरियन अफेयर्स (OCHA) के अनुमान से कहीं ज्यादा बुरा है." वॉशिंगटन स्थित संगठन, दि सीरियन इंस्टीट्यूट और नीदरलैंड्स के एक शांति समूह पैक्स ने मिलकर इस रिपोर्ट को जारी किया है.

संयुक्त राष्ट्र ने जनवरी में जारी अपनी एक रिपोर्ट में घेराबंदी में फंसे सीरियाई लोगों की संख्या को 486,700 यानि एनजीओ के अनुमान से करीब आधा बताया था. अमेरिकी और डच समूहों का यह संयुक्त प्रोजेक्ट सीज वॉच दिखाता है कि यूएन की मासिक रिपोर्टों में "सीरिया के घेराबंदी संकट को लगातार कम करके" बताया जाता रहा है. रिपोर्ट का मानना है कि यूएन रिपोर्टें "जमीनी हकीकत को सही तरीके से नहीं दिखा पा रही" है. सीज वॉच ने बताया कि कुछ 46 समुदायों में से केवल दो को ही सीरिया की विपक्षी सेना ने घेर रखा है, बाकी असद समर्थित सेना की घेराबंदी में हैं.

दियर एजोर शहर में करीब दो लाख लोग फंसे हैं, जिनके चारों ओर इस्लामिक स्टेट के जिहादियों और प्रशासन की सेना का जमावड़ा है. यूएन रिपोर्टों की आलोचना में सीज वॉच ने कहा है कि इससे समस्या का सही अंदाजा नहीं लगता और नतीजतन अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया भी धीमी होती है. मदाया जैसे कुछ शहरों में व्याप्त भूखमरी और बदहाली की तस्वीरें बाहर आने पर दुनिया को सीरियाई लोगों के हाल का सही अंदाजा लग सका था.

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री