1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

यंग इमाम शो दूसरे देशों तक पहुंचाने की कोशिश

मलयेशिया में यंग इमाम ढूंढने वाले रियालिटी शो के मशहूर होने के बाद उम्मीद की जा रही है कि बाकी मुस्लिम देश भी इस रियालिटी शो को अपना लेंगे. रियालिटी शो के जरिए बेस्ट यंग इमाम की तलाश.

default

इस रियालिटी शो में बेस्ट यंग इमाम ढूंढने के लिए प्रतियोगिता आयोजित की जाती है. इस साल 26 वर्षीय मुहम्मद असिरफ रिदजुआन मलयेशिया के इमाम मुदा यानी यंग इमाम चुने गए हैं.

दस एपिसोड वाले इस शो के ज़रिए कोशिश की जा रही है कि युवा लोगों में इस्लाम के प्रति रुचि जगाई जाए और रियालिटी टीवी शो और धार्मिक परंपरा को साथ लाने की कोशिश की जा रही हैं.

इस शो के कारण मलयेशिया और दुनिया भर में कुरान की आयतें पढ़ने वाले स्मार्ट युवाओं के प्रति लोगों की रुचि जाग रही है. साथ ही ये भी देखा जाता है कि कितनी अच्छी तरीके से वे इस्लाम धर्म की परंपरा का पालन करते हैं.

Malaysia Imam Muda Casting Show

इस प्रतियोगिता में जीते असिरफ को पुरस्कार के तौर पर सउदी अरब की अल मदीना युनिवर्सिटी में स्कॉलरशिप, कुआलालंपुर में मौलवी की नौकरी, एक आई फोन, कार मिली है. साथ ही मक्का जाने के लिए पूरा खर्च और कैश इनाम दिया गया है.

असिरक ने बहुत खुशी जाहिर की. बात मेरे चैंपियन बनने की नहीं है, लेकिन मुझे इस बात की खुशी है कि दुनिया भर में इस कार्यक्रम को देखा गया. इमाम मुदा के सभी प्रतियोगी संतुष्ट हैं क्योंकि हमारा उद्देश्य समुदाय की सफलता है.

इस शो के लिए एक हज़ार से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया था लेकिन ऑडिशन के बाद 10 ही लोगों को चुना गया. इन प्रतियोगियों को धार्मिक प्रार्थना के अलावा, समुदाय की समस्यों को सुलझाने की चुनौती का सामना करना पडा. शो के लिए असिरफ और बाकी प्रतियोगियों को अपने परिवार से तीन महीने दूर रह कर कठिन समय बिताना पडा. इसमें इन्हें टीवी, फोन, इंटरनेट का इस्तेमाल करने की इजाजत नहीं थी और कड़े नियमों का पालन करना होता था.

इमाम मुदा का ग्रैंड फाइनल इंटरनेट पर 16 देशों में लाइव देखा गया जिसमें अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, भारत, कनाडा, जर्मनी शामिल हैं. फेसबुक में 60 हज़ार से ज्यादा लोग इस कार्यक्रम की ओर आकर्षित हुए. अब इसे दूसरे देशों के लिए भी बनाने की कोशिश की जा रही है.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ओ सिंह

DW.COM