1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

म्यूनिख मस्त, शाल्के पस्त

शाल्के के सितारों ने खुद ही मान लिया है कि बायर्न म्यूनिख के हाथों मिली हार से उन्हें चक्कर आ गया है. घरेलू लीग में इतनी बड़ी शिकस्त पूरे 32 साल बाद शाल्के के माथे पर पड़ी है.

इससे पहले मई 1981 में शाल्के की टीम ने 6-0 से करारी हार झेली थी. शुरुआत के 20 मिनट तो शाल्के बायर्न को बराबरी पर टक्कर दे रहा था, लेकिन इसके बाद तो बायर्न ने शाल्के की हालत बुरी कर दी. खेल के दूसरे हिस्से में फ्रांक रिबेरी और क्लाउडियो पिजारो के किए गोलों की तो बात ही छोड़िए पहले हाफ में ही बायर्न 2-0 से आगे था.

अब इसके बाद तो शाल्के के कप्तान बेनेडिक्ट को कहना ही था, "अगर हाफ टाइम ब्रेक के पहले बायर्न जैसी टीम से 2-0 से पीछे हों तो निश्चित रूप से यह बहुत मुश्किल हो जाता है. हमने चीजों को बदलने की कोशिश की लेकिन आखिर में आपको यह मानना होगा कि बायर्न जीतने के काबिल था." शाल्के ने पिछले चार मुकाबलों में जीत दर्ज की थी और उसमें चैंपियंस लीग में स्टेयावा बुखारेस्ट पर बुधवार को 3-0 से मिली जीत भी शामिल थी. पर यह सिलसिला 0-4 की बहुत बुरी हार के साथ टूटा.

शानदार जीत ने बायर्न म्यूनिख के कोच गुआर्डिओला को खुश कर दिया है. गेल्जेनकिर्शेन में मिली इस जीत के साथ बायर्न बुंडसलीगा की अंक तालिका में बोरुसिया डॉर्टमुंड के बराबरी पर आ गया है. लीग के छह मैचों में गुआर्डिओला के नेतृत्व में खेल रहे बायर्न में महज दो अंक गंवाए हैं. जीत के बाद गुआर्डिओला ने कहा, "यह अब तक का हमारा सबसे शानदार प्रदर्शन रहा है, हमने जर्मनी की बेहतरीन टीमों में से एक के खिलाफ मैच में पूरी तरह से दबदबा बनाए रखा." गुआर्डिओला की टीम अब बुधवार को हनोवर से मुकाबला करेगी.

उधर जर्मन लीग के सरताज डॉर्टमुंड ने शनिवार को न्यूरेम्बर्ग के साथ 1-1 से ड्रॉ खेल कर अपना पहला अंक गंवाया. लीग के पहले पांच मुकाबलों में जीत दर्ज करने वाले डॉर्टमुंड के कोच युर्गेन क्लॉप वीकेंड टीम लेकर ही मैदान में उतरे थे. सेंटर बैक माट्स हुमेल पीठ की चोट के कारण नहीं आए तो स्टार स्ट्राइकर रॉबर्ट लेवांडोव्सकी और मिडफील्डर हेनरिक मिकीतारयान को नापोली के हाथों चैंपियंस लीग में मिली हार के बाद आराम दे दिया गया है. क्लॉप ने कहा, "हम थोड़ा अच्छा खेलना चाहते थे लेकिन अब इस अंक के साथ भी चल सकते हैं."

लीग के दूसरे मुकाबलों में फ्राइबुर्ग की किस्मत एक बार फिर दगा दे गई और हैर्था बर्लिन से उसका मुकाबला 1-1 से बराबरी पर रहा, वोल्फ्सबुर्ग ने होफेनहाइम को 2-1 से हरा दिया जबकि माइंस बायर लेवरकूजेन से एक के मुकाबले चार गोल से हार गया. उधर वैर्डर ब्रेमेन ने हैम्बर्ग को 2-0 से हराया है.

एनआर/एमजे (डीपीए, एएफपी)

DW.COM