1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

म्यूनिख को हरा कर इंटर मिलान चैंपियन

इटली के इंटर मिलान क्लब ने जर्मनी के फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख को 2-0 से हरा कर 45 साल बाद चैंपियंस लीग जीत लिया है. अर्जेंटीना के स्ट्राइकर डिएगो मिलितो ने दोनों गोल कर टीम को यादगार जीत दिलाने में मदद की.

default

मैड्रिड में खेले गए मैच में मिलितो ने इंटर मिलान के लिए खाता मैच के 35वें मिनट खोला जबकि दूसरा गोल उन्होंने मैच खत्म होने से 20 मिनट पहले किया. इंटर मिलान के कोच जोसे मरीनियो ने ऐसा तीसरा कोच होने का गौरव प्राप्त किया है जिन्होंने दो अलग अलग क्लबों को चैंपियंस लीग में जीत दिलवाई हो. इससे पहले मरीनियो 2004 में पोर्तो को शीर्ष पर पहुंचाने में भूमिका निभा चुके हैं.

यह तीसरी बार है जब इंटर मिलान ने चैंपियंस लीग का खिताब अपने नाम किया है. इससे पहले इंटर मिलान ने चैंपियंस लीग टाइटल 1964 और 1965 में जीता था. यूरोप के सबसे प्रतिष्ठित माने जाने वाले फुटबॉल टूर्नामेंट में इटली के इंटर मिलान क्लब को कई साल से खिताबी जीत का इंतजार था और शनिवार रात यह पूरा हो गया. चैंपियंस लीग यूरोप के फुटबॉल क्लबों में खेला जाता है.

Champions League Finale 2010 Bayern München gegen Inter Mailand in Madrid Flash-Galerie

फाइनल में दो गोल ठोंकने वाले मिलितो के लिए यह जीत निजी रूप से भी मायने रखती है क्योंकि उन्होंने इस सीजन में 22 गोल किए हैं. इंटर मिलान को इटैलियन टाइटल जीतने वाले मैच में भी मिलितो ने गोल किया था. "यह एक ऐसी खुशी है जिसे मैंने कभी महसूस नहीं किया है. मैं इंटर मिलान के लिए बहुत खुश हूं क्योंकि हम इसे जीतने को बेकरार थे. हम बहुत खुश हैं और यह अदभुत अनुभूति है."

इंटर मिलान के कैंप में जश्न के माहौल के विपरीत बायर्न म्यूनिख में थोड़ी मायूसी है लेकिन टीम निराश नहीं है. बायर्न म्यूनिख के कोच लुइस फोन गाल की टीम जीत की तिकड़ी लगाने में भले ही नाकाम रही हो लेकिन बुंडेसलीगा और डीएफबी कप जीतना उनकी उपलब्धि माना जाएगा. कुल मिलाकर बायर्न के लिए 2010 अच्छा साबित हुआ है.

बायर्न के पूर्व अध्यक्ष फ्रांत्स बेकेनबाउर ने जर्मन टीवी को बताया, "इंटर मिलान 90 मिनटों तक बेहतरीन ढंग से खेली और जीत की हकदार वही है." बायर्न ने गेंद को अपने कब्जे में रखी जरूर लेकिन सैम्युएल और मिलितो टीम की रक्षा पंक्ति के लिए खतरा बने रहे और मौकों को गोल में तब्दील करने में सफल रहे.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ओ सिंह

संबंधित सामग्री