1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

मोबाइल चार्ज करिए जूतों से

खेतों में काम करते या घूमते हुए या फिर पहाड़ों या जेंगलों में ट्रेकिंग करते हुए आपके फोन की बैटरी खत्म हो जाए तो आपकी मदद के लिए ऐसे जूते आ गए हैं जो मोबाइल की बैटरी चार्ज कर देंगे.

default

इन जूतों को पहन कर 12 घंटे चलिए तो आपका मोबाइल एक घंटे के इस्तेमाल करने लायक चार्ज हो जाएगा. इन ख़ास जूतों को मोबाइल फोन बनाने वाली यूरोपीय कंपनी ऑरेंज ने बनाया है और नाम दिया है पावर बूट. पावर बूट में ऊर्जा पैदा करने वाली सोल लगी होती है. पावर बूट पहनने वालों के पैरों की गर्मी को विद्युत ऊर्जा में बदल देता है जिसका इस्तेमाल बैटरी चार्ज करने में की जाती है. इन बूटों को बनाया है डेव पेन ने जो गॉटविंड नाम की कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर हैं.

Saduh mit Handy in Indien

जहां चाहें फोन चार्ज कर लें

पेन ने बताया कि जूतों में ऊर्जा पैदा करने के लिए सीबेक प्रभाव का इस्तेमाल किया गया है. सीबेक प्रभाव के मुताबिक दो अलग धातुओं से बना सर्किट अगर दो अलग तापमान वाली सतहों को जोड़ता है तो उनके बीच इलेक्ट्रिक करेंट पैदा हो जाती है. इन जूतों के सोल में दो अलग अलग धातुओँ की सतह होती है. अगर इन सतहों को एक तरफ से ठंढक और दूसरे तरफ से गर्मी मिले तो इलेक्ट्रिक चार्ज पैदा होती है. इसका इस्तेमाल जूतों के हील में मौजूद बैटरी को चार्ज करने में किया जाता है. यही बैटरी आपके मोबाइल फोन की बैटरी को चार्ज करती है. इस सर्किट को सिरेमिक की दो सतहों के बीच रख दिया जाता है. जूतों को पहनने के बाद जब इसे ऊपर के सिरेमिक सतह से गर्मी और दूसरे तरफ से ठंढक मिलती है तो बिजली पैदा होती है.

खुले मैदान में होने वाले किसी संगीत समारोह या फिर ट्रेकिंग के दौरान अब मोबाइल की बैटरी चार्ज करने की जिम्मेदारी जूतों पर डालिए और मस्ती में झूमते रहिए. आपका फोन बंद नहीं होगा. गॉटविंड इस तकनीक को और बेहतर बनाने के लिए काम कर रही है. जल्दी ही वो ऐसे कपड़े और दूसरे एसेसरीज में भी फोन चार्ज करने की सुविधा मुहैया कराएंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री