1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मोदी मंत्रिमंडल का पुनर्गठन

भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सत्ता में आने के बाद अपने मंत्रिमंडल का पहली बार पुनर्गठन किया है और स्वास्थ्य और भारत की प्राचीन परंपरा को प्रोत्साहन देने के लिए एक योग मंत्री भी बनाया है.

योगप्रेमी नरेंद्र मोदी ने रविवार को सुधारों को तेज करने और अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के मकसद से अपने मंत्रिमंडल में 21 नए मंत्रियों को शामिल किया. रविवार को मंत्रियों के बीच विभागों के बंटवारे में आयुश मंत्रालय भी शामिल था जिसके प्रभारी मंत्री की जिम्मेदारी होगी आयुर्वेद, योग, नैचुरोपैथी, यूनानी और होम्योपैथी जैसे परंपरागत चिकित्सा विधियों को बढ़ावा देना.

शाकाहारी मोदी ने सितंबर में संयुक्त राष्ट्र में अपने भाषण में एक अंतरराष्ट्रीय योग दिवस तय करने की मांग की थी. अब पूर्व पर्यटन मंत्री श्रीपद नायक को स्वास्थ्य मंत्रालय से काटकर बनाए गए इस नए मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है.

विभागों के बंटवारे के बाद मोदी ने अपने सभी नए साथियों को बधाई देते हुए कहा कि उन्हें देश की विकासयात्रा को तेज करने के लिए उनके साथ काम करने का इंतजार है.

प्रधानमंत्री ने अपने नए कैबिनेट में चार और मंत्रियों को शामिल किया है. उनके अलावा 66 सदस्यीय मंत्रिमंडल में 17 राज्यमंत्री भी शामिल किए गए हैं. गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को रक्षा मंत्रालय सौंपा गया है जिनकी जिम्मेदारी देश की सेना का आधुनिकीकरण करने की होगी. अरुण जेटली को सूचना और प्रसारण मंत्रालय की जिम्मेदारी भी दी गई है लेकिन उनका मुख्य काम अगले साल का विकास पर आधारित बजट बनाना होगा.

भ्रष्टाचार के मामलों में फंसी कांग्रेस पार्टी के शासन में रक्षा सौदे पर रोक लग गई थी और अर्थव्यवस्था भी जाम हो गई थी. विकास के नारे पर सत्ता में आए मोदी की सरकरा ने पिछले महीनों में कुछ आर्थिक सुधार किए हैं लेकिन अभी तक वह बड़े सुधारों की घोषणा करने से बची है, जिन्हें अर्थशास्त्री निवेश और मैनुफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए जरूरी मानते हैं.

पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिंह के हार्वर्ड में शिक्षित बेटे जयंत सिंहा को उप वित्त मंत्री बनाया गया है. सुधारों का इंतजार कर रही रेलवे की जिम्मेदारी सुरेश प्रभु को दी गई है जो अपनी प्रशासनिक क्षमताओं के लिए जाने जाते हैं. सुरेश प्रभु शिवसेना छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं. वे जी-20 के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शेरपा हैं.

संबंधित सामग्री