1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मोदी पर फिल्म में परेश रावल नहीं

नरेंद्र मोदी की जिंदगी पर आधारित फिल्म नमो में अब परेश रावल के बदले विक्टर बनर्जी काम करेंगे. लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी की भारी जीत के बाद नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया है.

फिल्मकार मितेश पटेल नरेंद्र मोदी से काफी प्रभावित हैं और उन पर फिल्म बनाने जा रहे हैं. इस फिल्म का निर्देशन रुपेश पाल के करने की योजना है. फिल्म का नाम चुनाव प्रचार के दौरान लोकप्रिय हुए नरेंद्र मोदी के नाम पर 'नमो' रखा गया है. इस फिल्म में पहले बॉलीवुड अभिनेता परेश रावल को नरेंद्र मोदी का किरदार निभाना था, लेकिन संसद के चुनावों में परेश रावल के सांसद चुने जाने के बाद यह योजना त्याग दी गई है. अब इस फिल्म में नरेंद्र मोदी के किरदार के लिए परेश रावल के बदले विक्टर बनर्जी को लिया जा रहा है.

फिल्म के निर्देशक रुपेश पाल ने यह जानकारी देते हुए कहा, "परेश रावल बेशक भारत के सबसे अच्छे अभिनेताओं में से एक है और निर्माताओं ने उनके नाम का ऐलान भी कर दिया था लेकिन जब मैं कहानी लिख रहा था तभी से विक्टर बनर्जी का नाम मेरे जहन में था." रुपेश पाल ने कहा कि विक्टर बनर्जी का फिल्म में शामिल होना बड़े फायदे की बात है.

विक्टर ही मेरे नमो

रूपेश पाल ने कहा, "मेरे लिए विक्टर ही मेरे नमो है. वह अकेले ऐसे भारतीय अभिनेता है जिन्होंने रोमान पोलांस्की, डेविड लीन और जेरी जैसे दिग्गजों के साथ काम किया है. उनकी अंतरराष्ट्रीय छवि मुझे विदेशी बाजारों तक पहुंचने में मदद करेगी." कुछ महीने पहले फिल्म के बारे में रूपेश पाल ने कहा था कि इस फिल्म का शीर्षक 'नमो' रखा जाएगा, हालांकि यह नरेंद्र मोदी के जीवन पर आधारित नहीं है. उनके अनुसार फिल्म नरेंद्र मोदी के जीवन से मिलती जुलती जरूर है.

रूपेश पाल ने पहले 'माय मदर्स लैपटॉप', 'मृगम' और 'यू कांट स्टेप ट्वाइस इंटू द सेम रिवर' जैसी फिल्में बनाई हैं. अपने फिल्मी करियर की शुरुआत रूपेश पाल ने 2008 में 'द टेम्पटेशन बिट्वीन माय लेग्स' से की लेकिन इसे सेंसर ने सर्टिफिकेट नहीं दिया. बाद में उन्होंने शॉर्ट फिल्म 'यू कांट स्टेप ट्वाइस इंटू द सेम रिवर' बनाई, जिसे कान और फ्लोरेंस के फिल्म महोत्सवों में दिखाया गया और उनके काम को काफी सराहा गया.

केरल में अल्लपुझा में जन्मे रूपेश पाल फिल्मकार के अलावा कवि भी हैं. फिल्में बनाना शुरू करने से पहले वे मलयालम मनोरमा और इंडिया टुडे में काम कर चुके हैं.

एमजे/आईबी(वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री