1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मोदी-थरूर विवाद बढ़ा, बीजेपी ने इस्तीफ़ा मांगा

कोच्ची फ़्रैंचाइज़ी में हिस्सेदारों के नाम सार्वजनिक करने पर उठा विवाद गहराता जा रहा है. विपक्षी भारतीय जनता पार्टी ने भ्रष्टाचार के आरोप में विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर से इस्तीफ़े की मांग की. कांग्रेस ने बकवास बताया.

default

इस्तीफ़ा दें थरूर

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विदेश मंत्री एसएम कृष्णा, कांग्रेस सांसद और बीसीसीआई प्रवक्ता राजीव शुक्ला से बात की है. अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इस बातचीत में क्या निर्णय लिया गया लेकिन कांग्रेस सूत्रों ने न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को बताया है कि शशि थरूर के बार बार विवादों में घिरने की आदत से पार्टी परेशान है. सूत्रों के मुताबिक़ राजनीति में छवि बहुत मायने रखती है और थरूर ने अपने व्यवहार से पार्टी और ख़ुद अपने लिए मुश्किलें पैदा की हैं.

Lalit Modi von der Indian Premier League in Johannesburg, Südafrika

ललित मोदी

आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी और शशि थरूर के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू होने के चलते बीसीसीआई ने गवर्निंग काउंसिल की बैठक बुलाई है जिसमें इस मामले पर फ़ैसला लिया जाएगा. बीसीसीआई प्रवक्ता राजीव शुक्ला ने बताया कि इस बैठक में एक दूसरे के आरोपों पर भी विचार भी किया जाएगा.

विवाद में अपना हाथ आज़माते हुए बीजेपी ने इसे भ्रष्टाचार का सीधा मामला बताया है और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से शशि थरूर को बर्ख़ास्त करने की मांग की है. बीजेपी सीबीआई जांच की भी मांग कर रही है ताकि सुनंदा पुष्कर से जुड़े धन के लेन देन की जांच हो सके. बीजेपी प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा, "सुनंदा का केरला या क्रिकेट से कोई रिश्ता नहीं है और शशि थरूर ने कोच्ची फ़्रैंचाइज़ी के लिए जो काम किया उसके लिए इक्विटी दी गई."

सुनंदा पुष्कर को 76 करोड़ रुपये की फ़्री इक्विटी दी गई है. आईपीएल की नई टीम कोच्चि में आर्थिक भागीदारी के मामले में लगे आरोपों का विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने पुरज़ोर खंडन किया है. थरूर ने इस बात से भी इनकार किया है कि उन्होंने ललित मोदी को कंसॉर्टियम के हिस्सेदारों के बारे में जानकारी पूछने से मना किया था. आईपीएल की नई फ्रैंचाइज़ी रोन्देवू ने ख़रीदी है.

एक बयान में विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने कहा है कि कंसॉर्टियम के सदस्यों को बोली रद्द करने के लिए दबाव डालने की कई कोशिशें मोदी और बाकी ने की थी ताकि बोली दूसरे शहर के पक्ष में जाए.

आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर पेज पर लिखा कि रोन्देवू ग्रुप में फ़्री इक्विटी होल्डर्स में किशन, शैलेन्द्र और पुष्पा गायकवाड़, सुनंदा पुष्कर, पूजा गुलाटी, जयंत कोटलवार, विष्णु प्रसाद और सुंदीप अग्रवाल हैं. मोदी ने लिखा, "मुझे कहा गया कि रोन्देवू ग्रुप का मालिक कौन है इस सवाल से मुझे दूर ही रहना है. ख़ास कर सुनंदा पुष्कर से. आख़िर क्यों."

रोन्देवू ग्रुप ने कोच्ची की फ़्रैंचाइज़ी ख़रीदने के लिए 1530 करोड़ रुपये से ज़्यादा ख़र्च किए हैं.

ग्रुप में इक्विटी रखने वालों में सुनंदा पुष्कर भी शामिल हैं और मीडिया में ऐसी रिपोर्टें हैं कि शशि थरूर उनसे जल्द ही शादी कर सकते हैं. रोन्देवू ग्रुप ने मोदी पर आरोप लगाया है कि उन्होंने गोपनीयता की शर्तों को तोड़ा है और उन्हें मुक़दमे की धमकी दी है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री