1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मैच से तय होगी मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जर्मन चांलसर अंगेला मैर्केल की अगले हफ्ते मुलाकात जर्मनी और ब्राजील के सेमीफाइनल मैच के नतीजे से तय होगी. अगर जर्मनी फाइनल में पहुंचता है, तो जर्मनी में प्रस्तावित बातचीत टल सकती है.

भारतीय मीडिया ने पिछले हफ्ते रिपोर्ट दी थी कि ब्रिक्स सम्मेलन में शामिल होने जा रहे मोदी रास्ते में जर्मनी में रुकेंगे और उस दौरान वह जर्मन चांसलर से मुलाकात करना चाहते हैं. लेकिन जर्मनी ने इस खबर की पुष्टि नहीं की. दरअसल मुलाकात की तारीख 13 जुलाई निकल रही है, जिस दिन फुटबॉल वर्ल्ड कप का फाइनल मैच खेला जाना है. जर्मन चांसलर फुटबॉल की बहुत बड़ी फैन हैं और समझा जाता है कि अगर जर्मनी की टीम फाइनल में पहुंचती है, तो वह मैच देखने ब्राजील जरूर जाएंगी.

आम तौर पर भारतीय सरकार प्रमुख जब अमेरिका या लातिन अमेरिका का दौरा करते हैं, तो वे जर्मन शहर फ्रैंकफर्ट में एक पड़ाव लेते हैं. इस दौरान विमान में ईंधन भी भरा जाता है और टीम एक रात आराम भी कर लेती है. लेकिन अगर मोदी की मैर्केल से मुलाकात तय होगी, तो उनका विमान फ्रैंकफर्ट की जगह बर्लिन में भी उतरता. लेकिन सारा कुछ सेमीफाइनल मैच पर निर्भर है, जिसमें जर्मनी को मेजबान ब्राजील से भिड़ना है. इस मैच में जर्मनी की स्थिति बेहतर मानी जा रही है क्योंकि ब्राजीली कप्तान थियागो सिल्वा और स्ट्राइकर नेमार इस मैच में नहीं खेल पा रहे हैं.

Fußball WM 2014 Deutschland Frankreich Viertelfinale

सेमीफाइनल में पहुंची जर्मन टीम

समझा जाता है कि जर्मनी की जीत की स्थिति में चांसलर मैर्केल फाइनल मैच देखने जाएंगी, जो इस रविवार को होने वाला है. वैसी स्थिति में उनका भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जर्मनी में मिलना मुश्किल हो सकता है. संभव है कि इसी वजह से जर्मन मीडिया या अधिकारी इस बारे में कोई बयान देने से बच रहे हैं. लेकिन ऐसा हो सकता है कि दोनों नेता अगले हफ्ते ब्राजील में मुलाकात करें.

पिछले हफ्ते हिन्दुस्तान टाइम्स ने इस प्रस्तावित मुलाकात के बारे में भारत सरकार के एक अधिकारी को यह कहते हुए बताया, "प्रधानमंत्री की जर्मनी यात्रा अहम है क्योंकि वह आर्थिक प्रगति की रफ्तार तेज करना चाहते हैं और वह जर्मनी के उत्पादन क्षेत्र को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित कर सकते हैं." यूरोप में भारत का सबसे बड़ा कारोबारी पार्टनर जर्मनी ही है. मोदी के ब्राजील रवाना होने से पहले बीजेपी नेतृत्व वाली भारतीय सरकार अपना पहला बजट भी पेश करेगी.

भारत के प्रमुख टेलीविजन समाचार चैनल एनडीटीवी ने अपनी वेबसाइट पर भारतीय विदेश मंत्रालय के सूत्रों के आधार पर लिखा है कि मोदी 11 जुलाई को ब्राजील के लिए रवाना हो सकते हैं और रास्ते में वह दो दिन जर्मनी में बिता सकते हैं. ब्रिक्स की बैठक ब्राजील में 15-17 जुलाई को होने वाली है.

रिपोर्ट: अनवर जे अशरफ

संपादन: महेश झा

संबंधित सामग्री