1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

"मैच फिक्सिंग रोकना असंभव"

फुटबॉल मैचों में पैसे लेकर पहले से नतीजे तय करने के मामले में जेल की सजा काट चुके सिंगापुर के रेफरी के मुताबिक मैच फिक्सिंग के मामले रोक पाना असंभव है. उनका दावा है कि पूरी दुनिया में मैच के फैसले पहले से तय हो रहे हैं.

अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल संघ फीफा के रेफरी रह चुके टी राजामानिकम से बातचीत के दौरान उन्होंने कई गंभीर मुद्दे उठाए. यूरोपीय जांच एजेंसी ने दावा किया है कि हाल में दुनिया भर के 680 फुटबॉल मैचों में फिक्सिंग हुई है और इनमें कुछ बड़े अंतरराष्ट्रीय मैच भी थे.

सिंगापुर के रेफरी राजामानिकम ने 1994 में नौ महीने की सजा काटी है. उनका कहना है, "आप लोग सिंगापुर के मामले को हौवा क्यों बना रहे हैं, जब यह काम पूरी दुनिया में हो रहा है." वह मैच फिक्सिंग की वजह से जेल जाने वाले दुनिया के पहले रेफरी हैं.

फुटबॉल की दुनिया छोड़ कर बिजनेस करने वाले 62 साल के पूर्व रेफरी ने कहा कि मैच फिक्सिंग के ज्यादातर आरोप सही हैं क्योंकि यूरोप, अफ्रीका, एशिया और लातिन अमेरिका के फुटबॉल खिलाड़ी, कोच और मैच अधिकारी फिक्सिंग में लगे हैं. उनका कहना है कि इसमें कोई नई बात नहीं है और सिर्फ यह देखना है कि कौन से नए मुद्दों को शामिल किया गया है.

Wettbetrug Fußball Singapur Polizei Ermittlungen

सिंगापुर में मैच फिक्सिंग की जांच

उनका कहना है, "मैच फिक्सिंग को रोक पाना असंभव है. आप जैसे ही एक दोषी सिर को काटते हैं, सैकड़ों नए सिर फिर उठ जाते हैं. यह एक कभी न नियंत्रित किया जा सकने वाला मर्ज है." राजामानिकम पर जीवन भर की पाबंदी लग चुकी है लेकिन उनका कहना है कि वह अपने काले अतीत को पीछे छोड़ चुके हैं. उन्होंने कहा, "इस पर काबू पाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेहद कठोर कदम उठाने होंगे और तब कहीं जाकर कई साल में भ्रष्टाचार कुछ कम हो सकता है क्योंकि यह पूरी दुनिया में फैला है. मुझे अचरज हो रहा है कि यूरोपोल सिर्फ सिंगापुर में जांच क्यों कर रही है." उन्होंने कहा कि एशिया की तीन सबसे बड़ी सट्टेबाजी की कंपनियां तो मनीला (फिलीपींस) में हैं.

सिंगापुर के गैर पेशेवर फुटबॉलर विल्सन राज पेरूमल को दुनिया के सबसे शातिर फुटबॉल खिलाड़ियों में गिना जाता है और राजामानिकम समझते हैं कि उसकी वजह से सिंगापुर पर खास नजर पड़ी. पेरूमल को फिक्सिंग की वजह से हाल में फिनलैंड में जेल भेजा गया. सिंगापुर को उसकी तलाश है और फिलहाल वह हंगरी में हिरासत में है.

राजामानिकम का कहना है, "उसने कई बार कहा है कि उसके पास तिजोरी की चाबी है और उसने इस बात की धमकी भी दी है कि वह नामों को सार्वजनिक कर देगा. लेकिन क्या उसकी बातों को गंभीरता से लेना है, यह सोचने की बात है क्योंकि वह निचले स्तर का 'खिलाड़ी' है और इसमें बड़े लोग शामिल हैं."

यह पूछे जाने पर कि फिक्सिंग से कैसे निपटा जा सकता है, उन्होंने कई बार अपना सिर हिलाया और कहा कि यह एक "दुनियावी बीमारी है और बहुत अफसोस के साथ कहना पड़ेगा कि इसे नहीं रोका जा सकता है."

उनका कहना है कि पुलिस को सख्ती से कार्रवाई करने की जरूरत है और हर किसी को यह संदेश जाना चाहिए कि "आपने मैच फिक्स किया नहीं कि आप पकड़े गए."

एजेए/एएम (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links