1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मैं श्रीसंत को जरूर लेता: अकरम

वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई भारतीय टीम में श्रीसंत और रोहित शर्मा का न होना पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम को हैरान करता है. उनका कहना है कि अगर वह टीम चुनते तो श्रीसंत को जरूर लेते.

default

अकरम ने कहा, "हाल के दिनों में श्रीसंत ने अच्छी बॉलिंग की है. उन्होंने टेस्ट मैचों में विकेट भी लिए. उनकी सोच में काफी सुधार हुआ है. मैंने उन्हें टीम में जरूर लिया होता."

रोहित शर्मा के लिए भी पूर्व पाकिस्तानी कप्तान को खेद है लेकिन रोहित को वह सीखने की सलाह देते हैं. उन्होंने कहा कि रोहित एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं लेकिन उन्हें मुश्किल तरीकों से सीखना होगा. क्योंकि जब आप लगातार रन नहीं बनाते तो ऐसा ही होता है.

Cricketspieler Rohit Sharma

संतुलित है टीम

लेकिन कुल मिलाकर अकरम भारतीय टीम के चयनकर्ताओं से खुश हैं. उन्हें लगता है कि एक संतुलित टीम चुनी गई है. उनका कहना है, "न सिर्फ भारत की बैटिंग लाइन अप अच्छी दिखाई दे रही है बल्कि गेंदबाजी में भी काफी विविधता है. मुझे लगता है कि चयनकर्ताओं ने सही संतुलन कायम किया है. धोनी के नेतृत्व में टीम अच्छा कर रही है."

सचिन जरूरी

बाएं हाथ के तेज गेंदबाज रहे अकरम साफतौर पर मानते हैं कि भारत की सफलता उसके वरिष्ठ खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर निर्भर करेगी. उनके मुताबिक, "वरिष्ठ खिलाड़ी भारतीय टीम की

Cricket Shanthakumaran Sreesanth

रीढ़ की हड्डी हैं. सचिन और सहवाग जैसे खिलाड़ी बेहतरीन हैं. बहुतों को लगता होगा कि सचिन, सहवाग और गंभीर जैसे चोटिल खिलाड़ियों को चुनना समझदारी नहीं है, लेकिन मेरा मानना है कि सचिन की मौजूदगी बहुत जरूरी है. अगर वर्ल्ड कप से एक हफ्ता पहले तक सचिन फिट न हों तो बात अलग है नहीं तो भारत के पास सचिन का कोई विकल्प नहीं है."

चावला का चयन सही

पीयूष चावला के चयन को लेकर कई तरह की बातें उठी हैं और कई जानकारों ने इस फैसले पर हैरत जताई है लेकिन अकरम इसे बिल्कुल सही फैसला मानते हैं. वह कहते हैं, "पीयूष चावला के चयन की सटीक वजह है कि वह एक लेग स्पिनर हैं और उप महाद्वीप में उनके पास गुगली जैसी विविधता है, जो यहां के ट्रैक पर बढ़िया काम आएगी."

अकरम मानते हैं कि भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच जारी वनडे सीरीज का वर्ल्ड कप के नतीजों पर कोई असर नहीं होगा. हालांकि वह भारत की जीत की भविष्यवाणी नहीं करते.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links