1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मैं रनों का भूखा हूं: रोहित शर्मा

जिम्बाब्वे दौरे पर लगातार दूसरी सेंचुरी जड़ने के बाद रोहित शर्मा ने कहा, मैं रनों का भूखा हूं. रोहित के शानदार शतक की मदद से भारत ने श्रीलंका को सात विकेट से हराया. युवराज सिंह और यूसुफ पठान के लिए बजी खतरे की घंटी.

default

जिम्बाब्वे के खिलाफ 120 और फिर श्रीलंका के खिलाफ 101 रन बनाने वाले रोहित शर्मा इस वक्त गजब फॉर्म में हैं. उनका यह प्रदर्शन आईपीएल से ही जारी है. रविवार को रोहित ने कहा, अच्छे फॉर्म में रहते हुए लगातार शतक लगाना हमेशा अच्छा अनुभव होता है. मैं वाकई रनों का भूखा हूं.

23 साल के इस बल्लेबाज के मुताबिक जिम्बाब्वे के खिलाफ जड़ी सेंचुरी हार की वजह से बेकार हो गई. उन्होंने कहा, वह काफी निराशाजनक था, हम मैच हार गए. ये सेंचुरी बढ़िया रही, हमारी जीत हुई. 44 वनडे खेल चुके रोहित अब तक दो शतक जड़ पाए हैं, ये दोनों शतकीय पारियां मौजूदा वनडे सीरीज़ में ही उनकी झोली में आई हैं.

Yuvraj SIngh Indien

चयनकर्ताओं के सामने कई विकल्प


बल्लेबाजों के प्रदर्शन से टीम इंडिया के कप्तान सुरेश रैना भी खासे उत्साहित हैं. अपनी कप्तानी में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच जीतने के बाद रैना ने कहा, पहले हमने अच्छी गेंदबाजी की और फिर रोहित और विराट ने शानदार बल्लेबाजी की. लगातार शतक लगाना वाकई में विशेष होता है. मैन ऑफ द मैच शो रोहित का ही रहा. विराट कोहली और रोहित शर्मा ने तीसरे विकेट के लिए 154 रन जोड़े. कोहली ने 82 रन बनाए.
विराट कोहली और रोहित शर्मा के इस प्रदर्शन से कप्तान और चयनकर्ता खासे खुश हैं. जाहिर है अब चयनकर्ताओं के पास ज़्यादा और भरोसेमंद विकल्प हो गए हैं. अगर यह दोनों बल्लेबाज बढ़िया प्रदर्शन जारी रखते हैं तो युवराज सिंह, यूसुफ पठान, दिनेश कार्तिक और मुरली विजय की टीम में जगह आने वाले दिनों में कमजोर पड़ सकती है.
भारतीय ड्रेसिंग रूम की हलचलों से दूर नए खिलाड़ियों से भरी श्रीलंकाई टीम के कप्तान तिलकरत्ने दिलशान बल्लेबाजों और गेंदबाजों से मायूस हुए. दिलशान ने कहा कि पहले तो बल्लेबाजों ने कम स्कोर खड़ा किया और फिर गेंदबाज उसे बचाने लायक बॉलिंग नहीं कर पाए.
भारत का अगला मैच तीन जून को जिम्बाब्वे से है और श्रीलंका का मंगलवार को. टुर्नामेंट में बने रहने के लिए श्रीलंका को ये मैच जीतना ज़रूरी है.

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह
संपादन: आभा मोंढे

संबंधित सामग्री