1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मेसी पर मुकदमा

टैक्स धोखाधड़ी के मामले में स्टार फुटबॉलर लियोनल मेसी के खिलाफ स्पेन में मुकदमा चलेगा. मामला मेसी की तस्वीरों से हुई कमाई का है. कोर्ट के मुताबिक मेसी को पता था कि उनके पिता धांधली करने जा रहे हैं.

बार्सिलोना के पास गावा की अदालत ने सोमवार को तय कर दिया कि अर्जेंटीना और बार्सिलोना के फॉरवर्ड लियोनल मेसी के खिलाफ टैक्स धोखाधड़ी का मामला आगे बढ़ाया जाएगा. मेसी और उनके पिता खोर्गे होरासियो मेसी पर 40 लाख यूरो की धांधली का आरोप है.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक 2006 से 2009 के बीच दोनों ने गलत टैक्स रिटर्न भरे. 2006 में मेसी की उम्र 19 साल थी. हालांकि मामले की जांच करने वाले अभियोजन पक्ष ने अदालत से मेसी के खिलाफ लगी धाराएं हटाने की भी मांग की, जिसे अदालत ने ठुकरा दिया. अभियोजन पक्ष ने दलील दी कि मेसी के वित्तीय मामलों की देखरेख उनके पिता खोर्खे करते हैं, लिहाजा स्टार फुटबॉलर को कानूनी कार्रवाई में न घसीटा जाए.

इसके जवाब में अदालत ने कहा कि जब शेल कंपनियां बनाई जा रही थीं तो मेसी को उसकी जानकारी मिली होगी और फुटबॉलर ने हामी भरी होगी. अदालत के मुताबिक मेसी को भले ही धांधली की जानकारी न मिली हो लेकिन उन्हें अपने पिता की मंशा का अंदाजा था. इन कंपनियों ने मेसी की तस्वीरों के अधिकारों से हुई कमाई पर टैक्स नहीं दिया. इसी को आधार बना कर कोर्ट ने कहा कि मेसी और उनके पिता के खिलाफ मुकदमा चलेगा.

शेल कंपनी, ऐसी कंपनी को कहते हैं जो नाम भर की होती हैं, लेकिन कारोबार नहीं करतीं. उसके पास अपनी संपत्ति नहीं होती. आम तौर पर ये वो कंपनियां होती हैं जो कारोबार में उतरने की तैयारी कर रही होती हैं या किसी समयसीमा को पूरा कर रही होती हैं. कई देशों में शेल कंपनी बनाना गैरकानूनी है.

चार बार दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर के खिताब से नवाजे जा चुके मेसी आरोपों से इनकार करते हैं. अमेरिकी पत्रिका फोर्ब्स के मुताबिक मेसी हर फुटबॉल सत्र में तनख्वाह और बोनस के रूप में चार करोड़ डॉलर पाते हैं. स्पॉन्सरशिप से उन्हें 2.3 करोड़ डॉलर की कमाई होती है. वह दुनिया के चौथे सबसे ज्यादा कमाई वाले खिलाड़ी हैं.

2008 की विश्वव्यापी मंदी में स्पेन की हालत खराब हो गई. मंदी से निकलने की कोशिश में स्पेन बीते दो सालों से टैक्स चोरी के मामलों की कड़ी जांच कर रहा है.

ओएसजे/एजेए (रॉयटर्स, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री