1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मेसी की चमक के 10 साल

अर्जेंटीना का एक परिवार परेशान था. उनके बच्चे का कद नहीं बढ़ रहा था, लेकिन वो फुटबॉल के मैदान पर धुरंधरों को नाप देता. इस प्रतिभा से मुग्ध एक क्लब उसे परिवार समेत स्पेन ले आया. आज ये सितारा लियोनेल मेसी नाम से धधकता है.

ठीक 10 साल पहले आज ही के दिन पुर्तगाल में पोर्तो के खिलाफ एक दोस्ताना मैच में विकल्प के रूप में मेसी ने पहली बार बार्सिलोना की जर्सी पहनी. तब शायद कम ही लोगों ने सोचा होगा कि वो पहला कदम फुटबॉल खेल को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगा.

यह महज संयोग ही है कि जब भारत अपने भगवान को आखिरी बार सफेद कपड़ों में क्रिकेट खेलते देख रहा है तब दुनिया के फुटबॉल का एक बड़ा सितारा अपनी पहली चमक का दसवां साल मना रहा है. दोनों सितारों में कम से कम एक समानता और है, वो है उनकी विनम्रता. दोनों अपना सारा आक्रोश सिर्फ खेल के जरिए ही जताते हैं.

लियोनेल मेसी लगातार चार साल से दुनिया के बेहतरीन फुटबॉलर चुने जा रहे हैं और उन्हें मौजूदा दौर का सबसे शानदार फुटबॉल खिलाड़ी माना जाता है. बार्सा टीवी को दिए इंटरव्यू में 2003 के लम्हे को याद कर उन्होंने कहा, "वह मेरे करियर का बहुत अहम पल था क्योंकि मैंने उस सपने को हासिल कर लिया जो बहुत बचपन में देखा था. उस पल तक पहुंचने के लिए मैंने बहुत संघर्ष किया था और वह बेहद खास था."

Wahl Weltfußballer des Jahres Lionel Messi

फुटबॉलर ऑफ द ईयर

बार्सा के डच कोच फ्रांक रिचकार्ड ने मेसी को मैच के 75वें मिनट में फर्नांडो नावोरो की जगह मैदान में उतारा. पोर्तो की टीम की जिम्मेदारी उस वक्त जोसे मोरिन्यो उठा रहे थे. 14 नवंबर की जर्सी पहने मेसी ने अपने हुनर के कुछ नमूने दिखाए लेकिन टीम मैच 2-0 से हार गई. मेसी के साथ टीम के कुछ और युवा खिलाड़ी भी थे, मेसी कहते हैं, "हमने खेल का मजा लिया, पहली बार टीम के साथ जाना और दूसरी चीजें, क्योंकि हम सब के लिए यह सब नया था, लेकिन जब हम वापस लौटे तो अपना ध्यान जूनियर ए टीम को ओर लगा लिया."

मेसी ने यह भी कहा, "मेरे मां बाप और कोच ने मुझसे कहा कि जो मिल रहा है उस हर चीज का मजा लो और उसे बदलने की कोई जरूरत नहीं थी. तो मैं आज भी उसी तरह से हूं. मैं अब भी उसी तरह से सोचता हूं लेकिन बहुत साल बीत गए हैं और मैं लगातार बढ़ रहा हूं, सीख रहा हूं, हर चीज की कद्र कर रहा हूं.

Lionel Messi und Vater Jorge

पिता के साथ

अब 26 साल के हो चुके मेसी लगातार चार बार वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द ईयर अवॉर्ड जीतने के साथ ही, चैम्पियंस लीग का तीन बार विनर्स मेडल और स्पेनी लीग ला लीगा के छह टाइटल जीत चुके हैं. इसी दौरान उन्होंने गोल के न जाने कितने रिकॉर्ड ध्वस्त करने के साथ ही बार्सिलोना के लिए सर्वाधिक गोल करने वाले का तमगा भी हासिल कर लिया है.

मेसी लगातार पांचवी बार वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द ईयर की दौड़ में हैं जो जनवरी में दिए जाएंगे हालांकि लगातार जख्मी होते रहने के कारण वो थोड़े से कमजोर पड़े हैं. इन चोटों के कारण उन्हें 6-8 हफ्तों तक मैदान से बाहर रहना पड़ा है. वह अपनी लय में वापस आने के लिए बार्सिलोना में बहुत मेहनत कर रहे हैं. दिसंबर के आखिर में दो हफ्ते की सर्दियों की छुट्टी के बाद स्पेनी लीग ला लीगा से वो वापसी करेंगे. चैम्पियंस लीग के आखिरी 16 टीमों में बार्सिलोना पहले ही शामिल हो चुकी है जिसके मैच फरवरी में शुरू हो जाएंगे.

एनआर/ओएसजे ()

DW.COM

संबंधित सामग्री