1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मेरे गोल्ड से बढ़ेगा भारत का रुतबाः सुशील

वर्ल्ड चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारतीय पहलवान सुशील कुमार ने कहा कि उनकी इस उपलब्धि से खेल की दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ेगी. सुशील वर्ल्ड चैंपियनशिप जीतने वाले पहले भारतीय पहलवान हैं.

default

रूसी पहलवान को किया परास्त

सुशील कहते हैं, "यह स्वर्ण पदक मेरे लिए बहुत मायने रखता है क्योंकि सभी पहलवान एक दिन वर्ल्ड चैंपियन बनना चाहते हैं. लेकिन कुछ लोग ही यह सपना सच कर पाते हैं. मैं भी उन्हीं भाग्यशाली पहलवानों में से एक हूं."

सुशील मानते हैं कि उनके स्वर्ण पदक के बाद और बहुत से लोग कुश्ती में आएंगे. उनके मुताबिक, "मैं भारत का पहला पहलवान हूं जिसने वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती है. यह अच्छी बात है क्योंकि अब सभी पहलवान सोचेंगे कि अगर सुशील यह कर सकता है तो वे क्यों नहीं. यह स्वर्ण पदक युवाओं को कुश्ती में आने के लिए प्रेरित करेगा."

Ringer

रविवार को सुशील ने 66 किलोग्राम वर्ग में रूस के एलेन गोएव को हराकर स्वर्ण पदक हासिल किया. सुशील को अपनी उपलब्धि का पूरा अहसास है लेकिन वह इसका श्रेय मेहनत और देशवासियों की दुआओं को देते हैं. वह कहते हैं, "वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीत कर बहुत अच्छा लग रहा है. मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि मैं उन उम्मीदों को पूरा कर पाया जो मुझे से लगाई गईं. वर्ल्ड चैंपियनशिप में गोल्ड पाना मेरा काफी समय से लक्ष्य था. अगर मैं यह कहूं कि मैं इसकी उम्मीद नहीं कर रहा था तो यह गलत होगा. मैं इसके लिए मेहनत कर रहा था और वह रंग लाई."

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार प्राप्त कर चुके सुशील से जब बीजिंग ओलंपिक में मिले कांस्य पदक से स्वर्ण पदक की तुलना करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "मेरे लिए दोनों ही अहमियत रखते हैं. मैं दोनों की तुलना नहीं कर सकता. दुनिया में ऐसे बहुत से पहलवान हैं जिन्होंने चार या पांच बार वर्ल्ड चैंपियनशिप जीती है लेकिन ओलंपिक में उन्हें कोई पदक नहीं मिला."

अब आगे पहले तो सुशील को कॉमनवेल्थ खेलों में अपना ताज बचाना है और फिर चीन में होने वाले एशियाई खेलों में उतरना है. वह कहते हैं, "अब मैं कॉमनवेल्थ खेल और फिर एशियाई खेलों पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहा हूं. दोनों ही टूर्नामेंटों से मुझे इसी तरह के नतीजों की उम्मीद है."

भारतीय खेल जगत में एक के बाद एक डोपिंग के मामलों पर सुशील ने साथी पहलवानों से आग्रह किया है कि वे इस तरह की गतिविधियों में फंस कर खेल को बदनाम न करें. वह कहते हैं, "डोपिंग एक अपराध है. ऐसा नहीं है कि डोपिंग के बाद आपका प्रदर्शन दोगुना हो जाएगा. इसलिए मैं सभी पहलवानों से अपील करता हूं कि डोपिंग से सावधान रहे हैं और खेलों को डोपिंग से दूर रखें."

इस बीच खेल मंत्री एमएस गिल ने सुशील को 10 लाख रुपये का नगद इनाम देने की घोषणा की है और उम्मीद जताई है कि कॉमनवेल्थ खेलों में भी उनका शानदार प्रदर्शन जारी रहेगा. सुशील से मुलाकात के बाद गिल ने कहा, "सुशील ने भारत को अभूतपूर्व कामयाबी दिलाई है. हम उन्हें इसके लिए 10 लाख रुपये देंगे. मुझे बहुत खुशी है कि सुशील ने देश का नाम ऊंचा किया है. मैं अब उन्हें काफी समय से देख रहा हूं. वह बहुत मेहनती और समर्पित हैं. मुझे उम्मीद है कि वह अगले महीने कॉमनवेल्थ खेलों में भी मेडल जीतेंगे."

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links