1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मेरी चिंता ना करें: ट्रीयरवायलर

फ्रांस की पूर्व प्रथम महिला वैलेरी ट्रीयरवायलर इन दिनों भारत में हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति से अलग हो जाने के बाद वह भारत में मीडिया से बच रही हैं.

राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद के प्रेम प्रसंग का किस्सा फ्रांस के मीडिया में खूब उछाला गया. आखिरकार ओलांद और ट्रीयरवायलर अलग तो हो गए लेकिन मीडिया के सामने आने से कतराते रहे. अब जब वैलेरी भारत में हैं तो भी मीडिया से बचने की कोशिशों में लगी हैं. वे चैरिटी कार्यक्रम के लिए भारत पहुंची हैं.

ओलांद और ट्रीयरवायलर ने शादी नहीं की थी, पर वे 2006 से साथ रह रहे थे. अभिनेत्री यूली गाये के साथ प्रेम प्रसंग की खबरों के बाद ओलांद ने अपने रिश्ते को ले कर चुप्पी साधी हुई थी. लेकिन शनिवार को दिए एक बयान में उन्होंने कहा कि वह "रिश्ता खत्म कर रहे हैं." इस बयान के बाद ही ट्रीयरवायलर भारत के लिए रवाना हुईं. अगले महीने ओलांद ओबामा से मिलने अमेरिका जा रहे हैं और ऐसी रिपोर्टें हैं कि वे अकेले ही जाएंगे.

खुद पेशे से पत्रकार ट्रीयरवायलर ने पहले दिन मीडिया से दूर रहने का फैसला किया. सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि भारत आ कर वे बेहतर महसूस कर रही हैं. यूली गाये और ओलांद की तस्वीरें छपने के बाद ट्रीयरवायलर आठ दिन तक पैरिस के अस्पताल में भर्ती रही थीं. भारत में जब पत्रकारों ने उनकी सेहत के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा, "मेरी चिंता नहीं करें." ऐक्शन अगेंस्ट हंगर नाम की संस्था के कार्यक्रम में पहुंची ट्रीयरवायलर ने कहा, "मुझे ऐसा लग रहा है कि मैं किसी के काम आ रही हूं."

Valerie Trierweiler in India

भारत आ कर ट्रीयरवायलर बेहतर महसूस कर रही हैं.

भविष्य का नहीं सोचतीं

ट्रीयरवायलर के पिछली शादी से तीन बच्चे हैं. मुंबई के एक अस्पताल में बच्चों से मिलते हुए उन्होंने कहा, "मुझसे यह बर्दाश्त नहीं होता कि इन बच्चों के पास बाकियों से कम मौके हों. हमें सबको बराबर अधिकार दिलवाने होंगे. यहां ऐसे बच्चे हैं जो भुखमरी का शिकार हैं. इसीलिए मैं यहां आई हूं." बच्चों से मिलने के बाद उन्होंने ट्विटर पर एक मां और बच्चे की तस्वीर भी पोस्ट की.

फ्रांस के राष्ट्रपति भवन में उनका दफ्तर है जहां से वे पत्रिकाओं के लिए लेख लिखती हैं. उनके इस निजी दफ्तर की कीमत 20,000 यूरो है. जब उनसे पूछा गया कि प्रथम महिला के रूप में उनका अनुभव कैसा था तो उन्होंने कहा, "मैं 19 महीने वहां थी. मुझे नए लोगों से मिलने का मौका मिला और शायद मैंने खुद के एक ऐसे हिस्से को भी अनुभव किया जिसे मैं पहले नहीं जानती थी."

जब उनसे भविष्य के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि वे नहीं जानती कि आने वाले दिनों में वे क्या करेंगी, लेकिन "मुझे लगता है कि कुल मिला कर हम सब कुछ ना कुछ कर सकते हैं और जैसे जैसे जो जो होगा मैं वो करती रहूंगी."

आईबी/एएम

DW.COM

संबंधित सामग्री