1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मेयर ने ली बीयर बैरल तोड़ने की ट्रेनिंग

जर्मनी में निर्वाचित प्रतिनिधियों को राजपत्रित कर्मचारी का दर्जा मिलता है. इसकी वजह से किसी भी शहर के मेयर को काम के समय में लोगों को बीयर बांटने पर पद जाने का खतरा हो सकता है, लेकिन म्यूनिख में ऐसा नहीं है.

म्यूनिख में परंपरागत बीयर फेस्टिवल में बीयर का बैरल खोल कर महोत्सव का उद्घाटन करना मेयर का काम है. म्यूनिख के नए मेयर डीटर राइटर के लिए डर तो यह था कि अगर वह बैरल को करीने से खोल नहीं पाए तो उनकी बड़ी बेइज्जती होगी. उन्हें इसकी ट्रेनिंग करनी पड़ी ताकि शनिवार को वे करीने से बीयर महोत्सव का उद्घाटन कर सकें. इस साल के महोत्सव में बीयर का पहला बैरल तोड़ने वाला नया है, क्योंकि पिछले साल के बाद नए मेयर का चुनाव हुआ है.

25 साल तक मेयर रहे क्रिस्टियान ऊडे का बैरल तोड़ने का ओत्साफ्ट का नारा पूरे दुनिया में जाना जाता है. इस साल मई में चुने गए राइटर निवार ठीक बारह बजे पहली बार म्यूनिख के विश्व प्रसिद्ध बीयर फेस्टिवल का उद्घाटन किया. शॉटेनहामेल तंबू में उन्होंने 200 लीटर वाले बैरल को हथौड़ा मार कर खोला. कुशल खिलाड़ी दो से तीन चोट में बैरल में टोंटी ठोक देते हैं, लेकिन नवसिखुए राइटर ने पाउलानर ब्रूअरी में ट्रेनिंग लेने के बाद तीन से चार हथौड़ों का लक्ष्य रखा. इसके साथ वे करीब करीब ऊडे के स्तर के हो जाएंगे जो अपने बेहतरीन समय में दो स्ट्रोक में टोंटी ठोक देते थे.

बीयर फेस्टिवल में पुलिस

उद्घाटन के बाद मेयर शांतिपूर्ण महोत्सव की कामना करते हैं, लेकिन इस बार इराक और यूक्रेन में चल रहे संकट के कारण पुलिस चौकस है. हालांकि फिलहाल कोई आतंकवादी खतरे की चेतावनी नहीं है लेकिन वर्दी वाली और सादे लिबास वाली पुलिस महोत्सव पर पूरी सावधानी से नजर रखेगी. बीयर फेस्टिवल के दौरान 500 स्थानीय पुलिसकर्मियों की मदद के लिए 8 पड़ोसी यूरोपीय देशों की पुलिस भी आई है जो खासकर उन देशों से आने वाले जेबकतरों और चोरों पर नजर रखेगी.

म्यूनिख बीयर महोत्सव में साल में 64 लाख लोग आते हैं. दुनिया भर के लोग म्यूनिख के बीयर महोत्सव का मजा लेने आते हैं तो इस भीड़ में अपना भाग्य आजमाने बहुत से देशों के जेबकतरे भी आते हैं. 2013 में महोत्सव में 67 लाख लीटर बीयर पी गई, 2012 में यह 74 लाख लीटर थी. हालांकि एक लीटर की कीमत बढ़कर 10 यूरो हो गई है लेकिन लोगों की दिलचस्पी कम नहीं हो रही है.

एमजे/आईबी (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री