1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मुशर्रफ़ देश और राजनीति में लौटेंगे

पाकिस्तान के पूर्व सैनिक तानाशाह परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा है कि वह पाकिस्तान और राजनीति में लौटना चाहते हैं. लेकिन उन्होंने यह साफ नहीं किया कि क्या वह प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति बनने के लिए ऐसा करना चाहते हैं.

default

जनरल परवेज़ मुशर्रफ़

अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन के साथ एक साक्षात्कार में मुशर्रफ़ ने इस आलोचना का भी जवाब दिया कि उनके शासनकाल में पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की सुरक्षा में

Pakistan Benazir Bhutto kehrt zurück Anschlag in Karachi

बेनज़ीर पर जानलेवा हमला

कमी रह गई थीं और इसकी वजह से भुट्टो की 2007 में चुनाव अभियान के दौरान हत्या कर दी गई थी.

मुशर्रफ़ ने बेनज़ीर की हत्या पर संयुक्त राष्ट्र की जांच की रिपोर्ट को खारिज कर दिया और कहा कि उन्होंने भुट्टो को हर संभव सुरक्षा उपलब्ध करवाई थी. उन्होंने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि उन्होंने खुद भुट्टो को चेतावनी दी थी ओर कहा था कि उनकी जान को ख़तरा है. मुशर्रफ़ का कहना था कि उन्होंने भुट्टो को उस जगह जाने से रोकने की भी कोशिश की थी जहां उनकी हत्या हुई थी. लेकिन यह बेनज़ीर की अपनी इच्छा थी कि वह वहां गईं.

Pakistan, oberster Richter wieder im Amt, Krise des Rechtssystems

मुख्य न्यायाधीश की बर्ख़ास्तगी से न्यायपालिका का संकट गहराया

इस बीच पाकिस्तान में चुनाव अधिकारियों का कहना है कि मुशर्रफ़ ने एक नई पार्टी का गठन करने के लिए कागज़ात जमा किए हैं. 2008 में हुए लोकतांत्रिक चुनावों के बाद बेनज़ीर भुट्टो की पीपल्स पार्टी की सरकार बनने और उनके पति आसिफ़ अली ज़रदारी के राष्ट्रपति बनने के बाद मुशर्रफ़ अब ज़्यादातर ब्रिटेन की राजधानी लंदन में रह रहे हैं.

Pakistan, Nawaz Sharif und Asif Ali Zardari, Vereinbarung über die Bildung einer Koalitionsregierung

लोकतंत्र के लिए साथ आए शरीफ़ और ज़रदारी

परवेज़ मुशर्रफ़ पाकिस्तान के सेना प्रमुख रहे हैं और उन्होंने 1999 में नवाज़ शरीफ़ की निर्वाचित सरकार को हटाकर सत्ता हथिया ली थी. फिर भी उन्हें अपने शासनकाल में पश्चिमी देशों में पाकिस्तान के आधुनिकरण के लिए बड़ी उम्मीद के रूप में देखा जाने लगा. 2001 में न्यूयॉर्क में 9-11 हमलों के बाद वे आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में अमेरिका के सबसे करीबी सहयोगी बन गए थे.

इसकी वजह से उन्हें पाकिस्तान के भीतर ही काफी आलोचना झेलनी पड़ी. मुशर्रफ़ के पाकिस्तान लौटने की इच्छा को लेकर अब तक यह स्पष्ट नहीं है कि क्या उनपर 2007 में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों और मुख्य न्यायाधीश को हटाने के मामले में मुक़दमा चलाया जाएगा. इसकी वजह से पाकिस्तान में मुशर्रफ़ विरोधी माहौल बना और उनके ख़िलाफ़ बडे विरोध प्रदर्शन हुए.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ प्रिया एसेलबॉर्न

संपादन: महेश झा

संबंधित सामग्री