1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

मुर्दाघर ने लौटाया 'मोटी लाश' को

ऑस्ट्रेलिया में एक महिला को एक भारी भरकम इंसान की लाश को रात भर अपनी कार में ही रखने को मजबूर होना पड़ा. असल में वह लाश को मुर्दाघर ले कर गई थी लेकिन मोटा होने के कारण मुर्दाघर वालों ने लाश को लेने से इंकार कर दिया.

जोएन कमिंग्स जब एक व्यक्ति की लाश को लेकर ऑस्ट्रेलिया में एक मुर्दाघर पहुंचीं तो उन्हें लाश समेत वापस लौटा दिया गया. कारण यह बताया गया कि 200 किलोग्राम वजन वाली लाश को रखने के लिए मुर्दाघर में जगह नहीं थी. उन्हें दो घंटे तक कार चलाकर फिर घर वापस लौटना पड़ा और लाश को रात भर गाड़ी में ही रखना पड़ा. लाश को खराब होने से रोकने के लिए कमिंग्स ने गाड़ी में एयर कंडिशनिंग को पूरी रात चलाए रखा.

कमिंग्स खुद एक मुर्दाघर की निदेशक हैं. उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन से बातचीत में बताया, "मुझे वाकई वापस लौटना पड़ा और रोबर्न में अपने घर पहुंचने के लिए दो घंटे तक गाड़ी चलानी पड़ी. मुझे रात भर उसे कार में रखना पड़ा." ऑस्ट्रेलिया के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में स्थित पिलबारा फ्यूनरल सर्विस नाम की कंपनी की सह-मालिक कमिंग्स ने अपने इस अनुभव के बारे में कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. उन्होंने बताया कि पहले भी 'हेडलैंड हेल्थ कैंपस हॉस्पिटल' भारी भरकम शवों को लेने से मना कर चुका है. कमिंग्स ने कहा, "मुझे रात भर हर आधे घंटे में आकर चेक करना पड़ा कि सब ठीक है या नहीं." अगली सुबह कमिंग्स ने लाश को सुरक्षित रखने के लिए खूब ठंडा करने वाले चिलर युनिट के साथ वाला एक सी-कंटेनर किराए पर लिया. इन औद्योगिक कंटेनरों का इस्तेमाल लंबे समुद्री रास्ते से भेजे जा रहे सामान को सड़ने से बचाने के लिए किया जाता है.

कमिंग्स ने बताया कि पिछले साल जब ऐसी ही एक घटना किसी और के साथ हुई थी तब हेल्थ कैंपस हॉस्पिटल के एक स्टाफ ने 250 किलोग्राम भारी लाश के बारे में कहा था कि वह "फ्रिज में रखे जाने के लिहाज से बहुत मोटा" है. पोर्ट हेडलैंड शहर के एक अखबार, 'दि नॉर्थ वेस्ट टेलीग्राफ' से बातचीत में कमिंग्स ने पूछा, "वह ऐसी चीजें कैसे कह सकता है. अगर इसकी जगह उसकी मां होती तो."

वास्तव में देश के कई अस्पतालों में भारी शरीरों को रखने की सुविधा नहीं है. पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया की 'कंट्री हेल्थ सर्विस' ने बताया कि अस्पताल के उपकरण ज्यादा से ज्यादा 150 किलोग्राम भारी शरीरों का बोझ ही सह सकते हैं. उन्होंने कहा कि वे भविष्य में 300 किलोग्राम के अधिकतम भार वाले लोगों को संभालने वाली मशीनें लगाने पर विचार करेंगे. सर्विस के क्षेत्रीय निदेशक रॉन वाइन ने एक वक्तव्य में कहा, "सबसे जरूरी है कि एक मृत व्यक्ति के साथ बेहद सम्मान और ख्याल करने का रवैया रखा जाए. जरूरी है कि शोकसंतप्त परिवार को परेशानी और तनाव ना दिया जाए." हेल्थ कैंपस हॉस्पिटल में हुई इस घटना के बारे में कमिंग्स ऐसे दावे मानने से इंकार करती हैं कि उनके पास मृत व्यक्ति को रखने लायक जगह नहीं थी. उन्होंने कहा, "उनके पास जो फ्रिज थे उनमें तो किसी हाथी के बच्चे को रखा जा सकता है जबकि उन्होंने एक इंसान को उसमें रखने से मना कर दिया."

आरआर/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री