1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मुरली के रिकॉर्ड तक कोई नहीं पहुंच सकताः वॉर्न

ऑस्ट्रेलिया के महान गेंदबाज शेन वॉर्न ने कहा है कि श्रीलंका के स्पिनर मुथैया मुरलीधरन का 800 विकेट का रिकॉर्ड कभी कोई नहीं तोड़ सकता. लेकिन मुरली के संन्यास के बाद श्रीलंका एक नई स्थिति से गुजर रहा है.

default

ऑस्ट्रेलिया के धुरंधर गेंदबाज शेन वॉर्न को यकीन हैं कि मुरली का टेस्ट में 800 रनों का रिकॉर्ड कोई तोड़ ही नहीं सकता. मुरली के बाद टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले वॉर्न हैं. उनके 708 विकेट हैं. मुरली ने दिसंबर 2007 में ही वॉर्न को पीछे छोड़ दिया था.

शेन वॉर्न का कहना है, "मुझे नहीं लगता कि कोई और मुरली के 800 तक पहुंचेगा. जिस तरह से उन्होंने ये विकेट लिए हैं वो जबरदस्त है. उनके बॉल डालने के अंदाज पर बहुत विवाद था लेकिन फिर आईसीसी ने उन्हें क्लीन चिट दे दी. उन्हें खेलने की अनुमति मिली. उनकी गेंदे खेलना काफी मुश्किल था खासकर श्रीलंका में स्पिन वाली पिच पर."

Shane Warne

पिछले दो दशक में वॉर्न और मुरलीधरन दुनिया के सबसे अच्छे स्पिनर्स में गिने गए. वॉर्न मानते हैं कि पहले नंबर की होड़ में वे थे. "हम हमेशा एक दूसरे पर नजर रखते थे. मुरली में बहुत कुछ अच्छा था. उनके चेहरे पर हमेशा एक मुस्कान रहती थी और लगता था जैसे वे हमेशा क्रिकेट का आनंद ले रहे हैं. दूर से मैं हमेशा उनका आदर करता रहा हूं. जब हम साथ में खेलते थे तो हमेशा एक दूसरे को पछाड़ने की कोशिश करते थे."

अब श्रीलंका को आगे के सभी टेस्ट मैच मुरलीधरन के बगैर ही खेलने होंगे. मुरली ने गुरुवार को टीम इंडिया के प्रज्ञान ओझा को आउट करके टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेटों का विशाल रिकॉर्ड बना लिया. टेस्ट खेल रहे खिलाड़ियों में भारत के हरभजन सिंह 355 विकेट ले चुके हैं औऱ न्यूजीलैंड के डैनियल विटोरी के 325 टेस्ट विकेट हैं.

18 साल से मुरलीधर श्रीलंका के लिए चक्र चला रहे थे. श्रीलंका के कप्तान कुमार संगकारा ने माना है कि उनकी कमी खलेगी. "मेरा मानना है कि मैं दूसरे मुरली की खोज नहीं करूंगा क्योंकि दूसरा आपको मिलेगा ही नहीं. उनके जैसा कोई है ही नहीं. मेरे लिए मुरली के बिना श्रीलंका की कप्तानी करना एक बहुत बड़ा नुकसान है. लेकिन इसी कारण हमें ये मौका भी मिलेगा कि टेस्ट में जीत के लिए दूसरे गेंदबाज कितना योगदान दे पाते हैं. मुझे नहीं लगता है कि हमारे लिए आठ या नौ विकेट लेने वाला कोई और होगा. हम सब मिल कर विकेट लेंगे. जरूरी कड़ी मेहनत करेंगे और बढ़िया गेंदें फेंक कर जीत हासिल करेंगे."

1992 में मुरलीधरन ने टेस्ट मैच खेला. उससे पहले श्रीलंका पिछले 40 टेस्ट में से सिर्फ दो ही जीत पाया था. लेकिन फिर श्रीलंका ने 59 टेस्ट मैच जीते जिसमें से 54 में मुरली थे.

मुरलीधरन हालांकि मानते हैं कि श्रीलंका की टीम का भविष्य अच्छा है और बहुत अच्छे गेंदबाज हैं. "क्रिकेट बदल गया है मुझे पूरा विश्वास है कि वे अच्छा करेंगे. मैं सुनिश्चित तौर पर कहता हूं कि आप लोग मुझे मिस नहीं करेंगे क्योंकि कुछ बॉलर्स बहुत ही प्रतिभाशाली हैं और वे टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करेंगे." मुरली के बाद स्पिनर लेफ्टी रंगना हेराथ हैं और अंजता मेंडिस भी, जबकि ऑफ स्पिनर सूरज रणदीव अभी टीम से बाहर हैं.

कुमार संगकारा ने कहा कि जो आना चाहते हैं उनके लिए दरवाजा खुला है. "मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहता हूं कि उन्हें कड़ी मेहनत के लिए तैयार रहना होगा."

पाकिस्तान के कोच वकार यूनुस ने इंग्लैंड में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा, "फर्स्ट क्लास क्रिकेट में आपका सपना होता है कि आप 800 विकेट लें. उन्होंने टेस्ट में ये कर दिखाया. वे जादूगर हैं. पिछले दो दशक में उन्होंने क्रिकेट बॉल के साथ जो जादू दिखाया वो जबरदस्त है."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

DW.COM

WWW-Links