1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मुरथल में कई महिलाओं से सामूहिक बलात्कार हुआ

जाट आंदोलन के दौरान हरियाणा के मुरथल में कई महिलाओं का बलात्कार हुआ. पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने पुलिस को फटकार लगाते हुए जांच के आदेश दिये हैं.

ऐसी कई रिपोर्टें आईं जिनमें कहा गया है कि दिल्ली से 50 किलोमीटर दूर, हरियाणा के मुरथल में कई महिलाओं को कार से खींचकर बाहर निकाला गया और फिर खेतों में उनका बलात्कार किया गया. ये सब आरक्षण की मांग को लेकर हो रहे जाट आंदोलन के दौरान हुआ. हरियाणा पुलिस अब तक लगातार बलात्कार की किसी भी घटना से इनकार करती रही है. पुलिस के मुताबिक कोई भी विश्वसीय चश्मदीद इन आरोपों की पुष्टि नहीं कर रहा है.

लेकिन पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने पुलिस की इस दलील को खारिज कर दिया. शुक्रवार को अदालत ने कहा कि आरोप आधारहीन नहीं हैं. दो चश्मदीदों के बयान को आधार बनाकर अदालत ने स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम बनाने का आदेश दिया. कोर्ट ने कहा कि दोगुनी कोशिशें करके महिलाओं और उन पर हमला करने वालों की पहचान की जानी चाहिए. जांच में अगर सीबीआई की मदद की जरूरत पड़े तो वो भी लेने का आदेश दिया गया है.

पुलिस को यह भी आदेश दिया गया कि वह लिखित में निचली अदालत से कहे कि बलात्कार के मामले बंद नहीं किये गए हैं. राजधानी से 50 किलोमीटर दूर बसा मुरथल यात्रा के दौरान चाय पानी के लिए रुकने का ठिकाना है. वहां कई ढाबे हैं. रिपोर्टों के मुताबिक 22 फरवरी 2016 के दिन दो ढाबा मालिकों ने पुलिस को बताया कि आंदोलन के दौरान 30 लोगों की भीड़ ने कारों को रोका और कम से कम 10 महिलाओं को बाहर खींचा और फिर खेतों में उनसे बलात्कार किया. भीड़ पर कारों को आग लगाने का आरोप भी है.

हाईवे के पास महिलाओं के कई अंडरवियर भी बिखरे हुए मिले. पुलिस के मुताबिक अंडरवियर एक दुकान से लूटे गए. पुलिस ने अदालत में यह भी कहा कि एक ढाबे के मालिक ने बलात्कार की पुष्टि नहीं की है.

जाट प्रदर्शन के दौरान 30 लोग मारे गए और 300 से ज्यादा लोग घायल हुए. उपद्रवियों ने हजारों करोड़ की सरकारी और निजी संपत्ति भी फूंकी.

ओेएसजे/एमजे (पीटीआई)

 

DW.COM

संबंधित सामग्री