1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मुन्नी परेशान हुई, एक गाने के लिए

फिल्म दबंग के एक गाने ने लाहौर में रहने वाली दो बच्चों की मां मुन्नी की रोजी रोटी को मुश्किल में डाल दिया है. जब से यह फिल्म हिट हुई है वह अपनी दुकान नहीं खोल पा रही हैं. ऐसा मुन्नी नाम की कई महिलाओं के साथ हो रहा है.

default

फिल्म दबंग पाकिस्तान में खासी हिट रही है. लेकिन इसके एक गाने ने कुछ महिलाओं की जिंदगी को इतनी मुश्किल में डाल दिया है कि वे इसे बद्दुआ देने पर मजबूर हैं. इस फिल्म में एक गाना है जिसके बोल हैं - मुन्नी बदनाम हुई डार्लिंग तेरे लिए.

लाहौर में रहने वाली मुन्नी का घर से निकलना दूभर हो गया है. गली मोहल्ले के लड़के आसपास से गुजरते हुए यह गाना गाते हैं. कुछ लोग उनकी दुकान पर आकर यह गाना गाने

Indien Schauspielerin Model Malaika Arora Khan

मालामाल हुईं मलाइका अरोड़ा

लगते हैं. पहले तो ऐसा सिर्फ कम उम्र लड़के ही करते थे लेकिन अब काफी पुरुष ऐसी हरकतें कर रहे हैं.

दबंग फिल्म का यह गाना भी चोरी का बताया जाता है. पाकिस्तान में 1992 में बनी एक फिल्म में उमर शरीफ पर एक गाना फिल्माया गया था जिसके बोल थे - लड़का बदनाम हुआ तेरे लिए. फिल्म दबंग का गीत इसी गीत की नकल है.

फिल्म में यह गाना मलाइका अरोड़ा पर फिल्माया गया है और उन्हें खूब प्रचार मिला है लेकिन यही गाना लाहौर में मुन्नी के लिए शर्मिंदगी का सबब बन गया है. मुन्नी ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार को बताया, "कभी भी कोई न कोई मेरी दुकान पर चला आता है और यह गाना गाने लगता है. पहले तो मैं ज्यादा ध्यान नहीं देती थी और इसे नजरअंदाज कर देती थी. लेकिन फिर यह रोज की बात बन गई और मुझे गुस्सा आने लगा."

वह बताती हैं कि आवारा लड़के ही नहीं शरीफ घरों के सीधे सादे दिखने वाले लोग भी उन्हें परेशान करते हैं. उन्होंने कहा, "उम्रदराज शरीफ माने जाने वाले लोग भी मेरी दुकान के सामने से निकलते वक्त यह गाना गाते हैं. उनमें से कइयों को तो मैंने डांटा भी लेकिन वे हंसते हैं और भाग जाते हैं. आखिरकार जब मैं बेहद तंग हो गई तो मैंने अपनी दुकान ही बंद कर दी."

लेकिन दुकान बंद करना मुन्नी के लिए समस्या का हल नहीं बल्कि ज्यादा बड़ी परेशानी बन गया है क्योंकि दुकान दो महीने से बंद है. और अब सवाल रोटी का खड़ा हो रहा है. वह कहती हैं कि अब या तो दुकान खुलेगी ही नहीं या फिर मैं वहां नहीं बैठूंगी.

इस गाने ने मुन्नी की निजी जिंदगी को भी नरक बना दिया है. वह बताती हैं, "कई बार वे लोग मुझे परेशान करने के लिए टेप पर ऊंची आवाज में यह गाना बजाते हैं. मेरे लिए तो यह एक बेहद डरावना ख्वाब बन गया है."

बिल्कुल ऐसी ही कहानी लाहौर में एक स्कूल की प्रिंसीपल शाहिदा मुन्नी की है. स्कूल में उनका जाना दूभर हो गया है क्योंकि छात्र उन्हें देखकर वही गाना गाते हैं. वह बताती हैं, "कहीं बाहर आते जाते मैं हर वक्त डरी रहती हूं. मुझे लगता है कि मुझे देखते ही वे लोग यह गाना गाने लगेंगे. कई बार मेरा यह डर सच साबित हो चुका है."

शाहिदा कहती हैं कि वे लोग मजे लेने के लिए ऐसा करते हैं लेकिन किसी को परेशान करके कोई कैसे खुश हो सकता है.

ऐसा पहली बार नहीं है जब किसी गाने की वजह से महिलाओं को परेशानी हो रही है. एक बार पाकिस्तान के मशहूर पंजाबी गायक अबरारुल हक को सुप्रीम कोर्ट ने अपने गाने के बोल बदलने का आदेश दिया था. उनके गाने में परवीन नाम लिया गया था जो इस नाम की महिलाओं को परेशान कर रहा था.

मुन्नी बदनाम हुई ने समस्या इस हद तक पहुंचा दी है कि पिछले महीने तीन पुलिस अफसरों को गिरफ्तार कर लिया गया और 30 को सस्पेंड किया गया. इन पुलिसवालों ने पंजाब के एक पुलिस थाने में तीन महिलाओं को पांच घंटे तक इसी गाने पर नचाया था.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

DW.COM

WWW-Links