1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मुकेश अंबानी को पछाड़ सकते हैं अनिल अग्रवाल

भारतीय मूल के अरबपति बिजनसमैन अनिल अग्रवाल केयर्न एनर्जी के भारतीय व्यापार को खरीदने की तैयारी कर रहे हैं और अगर ऐसा हो पाता है तो वह अमीरी के मामले में मुकेश अंबानी को पीछे छोड़ देंगे. मुकेश एक अरसे से सबसे अमीर हैं.

default

केयर्न इंडिया खरीदने और स्टारलाइट एनर्जी ग्रुप का प्रस्तावित आईपीओ आने के बाद अनिल अग्रवाल की कुल संपत्ति एक लाख 67 हजार करोड़ रुपये हो जाने का अनुमान है. मुकेश अंबानी की संपत्ति की कुल कीमत इस वक्त एक लाख 45 हजार 275 करोड़ रुपये है. वैसे मुकेश की कंपनी आरआईएल अनिल अग्रवाल के वेदांता ग्रुप से काफी अमीर है लेकिन दोनों टाटा से पीछे हैं. टाटा की कुल कीमत तीन लाख 70 हजार करोड़ रुपये है. लेकिन कंपनी के प्रमोटर के रूप में टाटा प्रमुख रतन टाटा की संपत्ति मुकेश या अग्रवाल के आसपास भी नहीं है.

बिजनस के लिहाज से देखा जाए तो अब तक अनिल अग्रवाल और मुकेश अंबानी अलग अलग क्षेत्रों के खिलाड़ी रहे हैं. अग्रवाल धातु और खनन के क्षेत्र में हैं जबकि मुकेश दुनिया का जाने माने पेट्रोकेमिकल कारोबारी हैं. लेकिन अब अग्रवाल भी केयर्न इंडिया की खरीद के साथ तेल व्यापार में आ रहे हैं. इससे खासतौर पर भारत में ऑयल सेक्टर में प्रतिस्पर्द्धा बढ़ेगी. इसके साथ ही अग्रवाल परिवार की संपत्ति अनिल अंबानी से लगभग दोगुनी हो जाएगी. अनिल की संपत्ति की कीमत 80 हजार करोड़ रुपये से कम है.

कुछ साल पहले जब रीयल एस्टेट की कंपनी डीएलएफ का आईपीओ आने वाला था, तब माना जा रहा था कि डीएलएफ के मालिक केपी सिंह अंबानी बंधुओं को पीछे छोड़ते हुए सबसे अमीर भारतीय बन जाएंगे. लेकिन आईपीओ आने में देर हुई और फिर रीयल एस्टेट सेक्टर पर मंदी की मार पड़ी. जिसकी वजह से डीएलएफ की मार्किट वैल्यू मुकेश अंबानी ग्रुप की एक तिहाई ही रह गई. इस वक्त केपी सिंह की कुल संपत्ति 44 हजार 409 करोड़ रुपये की है.

भारत के बिजनस घरानों को देखा जाए तो इस वक्त मुकेश अंबानी अमीरी के मामले में टॉप पर हैं. उनके बाद वेदांता ग्रुप के अनिल अग्रवाल का नंबर आता है. फिर ब्रिटेन में बसे भारतीय व्यापारी लक्ष्मी मित्तल (88,670 करोड़), अजीम प्रेमजी (80,109 करोड़), अनिल अंबानी (79,801 करोड़) और सुनील मित्तल (61,245 करोड़) का नंबर है. इन सबके बाद केपी सिंह हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links