1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

मुएलर से बराबरी की नहीं सोचते क्लोजे

जर्मनी और लाजियो के स्टार स्ट्राइकर मिरोस्लाव क्लोजे लंबे समय से फुटबॉल की दुनिया में धूम मचा रहे हैं लेकिन सटीक गोलंदाज का कहना है कि वह अब भी सीख रहे हैं.

फुटबॉल के मैदान में मारक निशाने के लिए मशहूर क्लोजे से बहुतों को उम्मीद रही है कि वह जर्मनी की राष्ट्रीय टीम के लिए गेर्ड मुएलर के रिकॉर्ड को तोड़ेंगे लेकिन खुद क्लोजे ऐसे सोच विचार में वक्त बर्बाद नहीं करना चाहते. क्लोजे का कहना है कि वह अभी सीख रहे हैं. जर्मन फुटबॉल संघ, डीएफबी को दिए एक इंटरव्यू में क्लोजे ने कहा, "मैं अब भी सीखना और बेहतर होना चाहता हूं." शनिवार को यह इंटरव्यू डीएफबी ने अपनी वेबसाइट पर डाला है. इसमें क्लोजे ने कहा है, "हमेशा से मेरा लक्ष्य राष्ट्रीय टीम और अपने क्लब के लिए ज्यादा से ज्यादा सफल होना रहा है."

बीते साल अर्जेंटीना के लियोनेल मेसी ने यह रिकॉर्ड तोड़ दिया. लियोनेल मेसी ने ना सिर्फ यह रिकॉर्ड तोड़ा बल्कि लगातार चार साल तक फीफा के फुटबॉलर ऑफ द ईयर का खिताब जीत कर एक नया रिकॉर्ड भी बना दिया है.

क्लोजे इटली की सीरीज ए के क्लब लाजियो में जबर्दस्त सफल रहे हैं. इसके साथ ही जर्मनी के लिए किए 67 गोलों के साथ उनकी कामयाबी का आंकड़ा गेर्ड मुएलर के आंकड़े से महज एक गोल पीछे है. इस लिहाज से वह गेर्ड मुएलर के काफी करीब नजर आते हैं लेकिन वेर्डर ब्रेमन और बायर्न म्यूनिख के लिए खेल चुके क्लोजे का कहना है कि मुएलर की बराबरी करना उनके लिए असंभव सी बात है. क्लोजे ने कहा है, "हम अलग तरह के तंत्र में अलग समय के अलग तरह के फॉरवर्ड रहे हैं, गेर्ड मुएलर अब भी अनोखे हैं और आगे भी रहेंगे."

क्लोजे ने जर्मनी में पैदा हुए घाना के खिलाड़ी केविन प्रिंस बोआटेंग की भी उनके हौसले के लिए तारीफ की है. क्लोजे ने दर्शकों की नस्लभेदी फब्तियों पर खेल छोड़ कर मैदान से बाहर जाने का साहस दिखाया और फिर पूरी टीम उनके साथ मैदान से बाहर चली गई. यह घटना एक ट्रेनिंग मैच के दौरान हुई थी. क्लोजे ने इसके बारे में कहा है, "वह एक बहुत बड़ा संकेत था और करने के लिहाज से एकदम उचित."

एनआर/आईबी (डीपीए)

DW.COM

WWW-Links