1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मुंबई में वोडाफोन के उपाध्यक्ष ने खुदकुशी की

भारत के इनकम टैक्स विभाग ने दिग्गज टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन को ढाई अरब डॉलर का टैक्स चुकाने को कहा है. आयकर विभाग ने इस बाबत नोटिस जारी किया. मुंबई में वोडाफोन के उपाध्यक्ष ने फांसी लगाकर खुदकुशी की.

default

भारी परेशानी में

मोबाइल कंपनी वोडाफोन के उपाध्यक्ष चंद्रमौली अय्यर ने मुंबई में अपने आवास में आत्महत्या कर ली. पुलिस के मुताबिक सांताक्रूज में रह रहे अय्यर का शव पंखे से झूलता हुआ मिला. पुलिस अधिकारी मधुकर चौधरी ने कहा कि दोपहर के वक्त अय्यर के एक मित्र उनके घर आए. उन्होंने ही अय्यर को फांसी पर लटके हुए देखा. उनकी उम्र 47 साल थी. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पुलिस के मुताबिक आत्महत्या के कारणों की जांच की जा रही है.

112 अरब रुपए टैक्स भरे वोडाफोन

इससे पहले शुक्रवार को ही आयकर विभाग ने हचिसन सौदे को लेकर वोडाफोन पर भारी भरकम टैक्स ठोंका. बॉम्बे हाईकोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद आयकर विभाग ने वोडाफोन के 2.53 अरब यानी करीब 112,17 अरब रुपये का टैक्स भरने को कहा. नोटिस के बाद वोडोफोन ने एक बयान जारी कर कहा, ''नोटिस मिलने के बाद टैक्स भरने के लिए 30 दिन का वक्त दिया गया है.''

वैसे हाईकोर्ट के फैसले के बाद वोडाफोन सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया. सुप्रीम कोर्ट में इस विवाद की सुनवाई सोमवार को होनी है. विवाद कैपिटल गेन टैक्स को लेकर है. वोडाफोन ने 2007 में हच नाम से मशहूर हचिंसन एस्सार कंपनी में बड़ी हिस्सेदारी 11.1 अरब डॉलर में खरीदी. वोडाफोन ने इस सौदे के लिए भारत में कैपिटल गेन टैक्स नहीं चुकाया. इस पर राजस्व विभाग ने वोडाफोन को नोटिस भेजा, जिससे जवाब में कंपनी ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया.

टैक्स पर भारत का हक

वोडाफोन ने दलील दी कि भारतीय राजस्व विभाग उस पर टैक्स नहीं लगा सकता. कंपनी का कहना था कि वोडाफोन ग्रुप हॉलैंड में पंजीकृत है और हचिंसन कंपनी केमैन आइलैंड्स में पंजीकृत है. ऐसे में विदेशों में पंजीकृत कंपनियों का आपसी सौदा भारत के अधिकार क्षेत्र से बाहर है. इस पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा कि हचिसन एस्सार भारत में कारोबार करती है. कंपनी का आधारभूत ढांचा भारत में भी लगा हुआ है. इसलिए कैपिटल गेन टैक्स पर भारत सरकार का हक बनता है. कैपिटल गेन टैक्स ऐसा कर है जो अचल संपत्तियों की बाजार दर बढ़ने पर चुकाया जाता है.

रिपोर्ट: पीटीआई/ओ सिंह

संपादन: एमजी

DW.COM

WWW-Links