1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मिस्र में मिलियन मार्च, मुबारक सत्ता छोड़ो के नारे

काहिरा में तहरीर स्कवेयर पर ढाई लाख लोगों ने जमा होकर राष्ट्रपति होस्नी मुबारक से सत्ता छोड़ने की मांग की. 30 सालों से सत्ता पर काबिज मुबारक पर हटने का जबरदस्त दबाव. मंगलवार को शांतिपूर्ण रहा प्रदर्शन.

default

तहरीर स्कवेयर पर जमा होते लोगों में हर उम्र, हर व्यवसाय के लोग शामिल हुए. प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहने की रिपोर्टें मिली हैं. शिक्षकों, किसानों, बेरोजगार छात्रों, ऑफिस कर्मचारियों के साथ महिलाएं भी शामिल हुईं. राष्ट्रवादी गीत गाते और मुबारक के सत्ता छोड़ने के नारे लगाते लोग तहरीर स्कवेयर पर जमा होते गए.

सैन्य हेलीकॉप्टर विरोध प्रदर्शनों पर नजर रखे हुए थे. प्रदर्शन के आयोजकों का कहना है कि इस मार्च का उद्देश्य शुक्रवार तक राष्ट्रपति को सत्ता से बेदखल करना है. ऐसे ही मार्च मिस्र के पांच अन्य शहरों में हुए हैं. तहरीर स्कवेयर के पास सैनिकों ने चेक प्वाइंट बनाए थे लेकिन भीड़ को वहां जुटने से रोकने में वे नाकामयाब साबित हुए.

NO FLASH Ägypten Kairo Proteste

सेना ने पहले ही साफ कर दिया था कि वह प्रदर्शनकारियों पर गोली नहीं चलाएगी. यह इस बात का संकेत है कि होस्नी मुबारक के लिए सत्ता तंत्र में समर्थन धीरे धीरे कम हो रहा है. एक छात्र ने कहा कि मुबारक का समय खत्म हो रहा है. उनका समय आ गया है. ट्यूनीशिया में बेन अली को जनांदोलन के बाद सत्ता से हटना पड़ा और अब यही स्थिति 82 साल के होस्नी मुबारक के लिए बन रही हैं.

होस्नी मुबारक की सत्ता पर आरोप है कि उनकी निरकुंश सत्ता में आम लोगों के लिए जीवन बेहद मुश्किल होता जा रहा है और गरीबी से मुकाबले के लिए शासक वर्ग गंभीर नहीं है. महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार की वजह से लोगों में घर कर गई हताशा अब आक्रोश के रूप में फूट रही है. मिस्र की जनसंख्या आठ करोड़ है लेकिन करीब 50 फीसदी जनता गरीबी रेखा से नीचे या फिर उससे थोड़ा ऊपर है.

Ägypten Kairo Proteste Demonstrationen Unruhen Großdemonstration NO FLASH

लोगों ने होस्नी मुबारक के पुतले भी ले रखे थे जिन पर लिखा है कि हत्यारे राष्ट्रपति पर मुकदमा चलाया जाना चाहिए. प्रदर्शनों में हिस्सा ले रहे लोगों का कहना है कि कुछ साल पहले तक मुबारक की सत्ता के खिलाफ वह आवाज भी नहीं उठा सकते थे लेकिन युवाओं ने साबित कर दिया है कि वह मुबारक के आदेश की अवहेलना कर सकते हैं.

कई लोगों इसीलिए युवाओं का साथ देने के लिए आए हैं क्योंकि उनके मुताबिक युवाओं ने अभूतपूर्व साहस का परिचय दिया है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदर्शनों में मरने वाले लोगों की संख्या 97 है लेकिन यह मृतकों का आंकड़ा इससे कहीं ज्यादा है.

Entwicklung der Unruhen in Ägypten Flash-Galerie

प्रशासन ने काहिरा में सभी सड़कों और सार्वजनिक परिवहन को बंद किया हुआ है. ट्रेन सेवाएं भी रोकी गई हैं लेकिन फिर भी लोग तहरीर स्कवेयर तक पहुंचने में सफल हो गए. काहिरा जैसे ही प्रदर्शन अलेक्जेंड्रिया, मंसूरा, लक्सूर, स्वेज में हुए हैं.

काहिरा में बैंक, स्कूल और स्टॉक मार्केट बंद है जिससे लोगों को असुविधा भी हो रही है. खाने पीने की चीजों की या तो किल्लत महसूस हो रही है या फिर उनकी कीमतें अब बढ़ गई हैं. इंटरनेट सेवा लगातार पांचवे दिन ठप रही. काहिरा के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर विदेशी नागरिक घर रवाना होने की तैयारी कर रहे हैं.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ओ सिंह

DW.COM