1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

मिस्र: आर पार की लड़ाई को तैयार जनता

मिस्र में राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के इस्तीफे की मांग कर रहे हजारों प्रदर्शनकारी काहिरा के केंद्रीय इलाके में जमा हुए. उनका कहना है कि जब तक मुबारक पद से नहीं हटते तब तक वे घर वापस नहीं जाएंगे. मुबारक पर जबरदस्त दबाव.

default

काहिरा के तहरीर स्कवेयर पर जमा हुए लोगों ने बैनर ले रखे हैं. एक बैनर पर लिखा है, "सेना को मुबारक और मिस्र में से किसी एक को चुनना होगा." सरकार ने प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए सैनिक भेजे हैं लेकिन मुबारक के शासन का विरोध कर रही जनता सैनिकों के साथ खाना बांट रही है. गरीबी, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी से त्रस्त जनता होस्नी मुबारक की 30 साल पुरानी सत्ता के खात्मे की मांग कर रहे हैं.

6 दिनों से जारी विरोध प्रदर्शनों में अब तक करीब 150 लोग मारे जा चुके हैं. लोग घरों में लौटने को तैयार नहीं हैं जबकि सेना उन पर दबाव नहीं डाल रही है. विश्लेषकों का मानना है कि अगर सेना लंबे समय तक प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तो होस्नी मुबारक पर पद से हटने का दबाव बढ़ता जाएगा.

Flash-Galerie Ägypten Proteste

राष्ट्रपति मुबारक ने जनता को शांत करने के लिए उपराष्ट्रपति और नए प्रधानमंत्री को नियुक्त किया है लेकिन यह जनता को संतुष्ट करने के लिए नाकाफी साबित हुआ है. मुबारक आर्थिक सुधारों का भी वादा कर रहे हैं लेकिन लोग भरोसा करने को तैयार नहीं दिख रहे.

प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को हड़ताल का आह्वान किया है और मंगलवार को मार्च बुलाया गया है. इसके जरिए लोकतंत्र की मांग को रखा जाएगा. जनता और सरकार के बीच जारी टकराव से मिस्र में तीन दशकों से चली आ रही मुबारक की सत्ता को खतरा पैदा हो गया है.

Flash-Galerie Ägypten Proteste

मिस्र को अरबों डॉलर की मदद देने वाला अमेरिका भी धीरे धीरे मुबारक से अलग होता नजर आ रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने देश में व्यवस्थित तरीके से सत्ता में बदलाव का संदेश दिया है.

इसे मुबारक के लिए पद छोड़ने का संकेत माना जा रहा है. अमेरिकी प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने रॉयटर्स न्यूज एजेंसी को बताया कि ओबामा टीम में यह भावना पनप रही है कि अब मुबारक का समय बीत चुका है लेकिन आगे क्या हो, इसका फैसला मिस्रवासियों को ही करना है.

NO FLASH Ägypten Mohamed El Baradei

होस्नी मुबारक एयरफोर्स चीफ रह चुके हैं और उन्होंने रविवार को सैन्य अधिकारियों के साथ बैठक की. माना जा रहा है कि मुबारक का भविष्य सेना के हाथ में ही है. मिस्र के रक्षा मंत्री ने रविवार को अमेरिकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स से बात की है.

अमेरिकी सेना में ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ चेयरमैन एडमिरल माइक मलेन ने मिस्र की सेना की तारीफ की है क्योंकि प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्ती बरतने से उसने परहेज किया है. मिस्र में प्रदर्शनों का नेतृत्व अब अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के पूर्व चेयरमैन मोहम्मद अल बारादेई कर रहे हैं.

मिस्र में विपक्षी दल अब मोहम्मद अल बारादेई से उम्मीद कर रहे हैं कि वह देश में राष्ट्रीय एकता सरकार का नेतृत्व और सेना के साथ संपर्क करें. अल बारादेई ने ओबामा से आग्रह किया है कि अब उन्हें मुबारक से बात करनी चाहिए. बारादेई के मुताबिक ऐसा नहीं होना चाहिए कि यह कहने वाले ओबामा आखिरी व्यक्ति हों कि मुबारक, अब आपके शासन का समय का पूरा हो चुका है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एमजी

DW.COM

WWW-Links